Wednesday, Apr 14, 2021
-->
the-price-of-lpg-increased-for-the-fourth-time-the-price-increased-four-times-prshnt

चौथी बार बढ़ी LPG की कीमत, चार बार बढ़ा दाम, जानें अब कितना महंगा हुआ गैस सिलेंडर!

  • Updated on 3/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में पेट्रोल- डिजल (Petrol and Diesel) की किमत में भारी उछाल के बाद से सरकार को हर तरफ से विरोध का सामना कर पड़ रहा है, इसके साथ ही एलपीजी (LPG) गैस का दाम भी आसमान छूने लगा है। एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमतों में एक बार फिर से बढ़ोतरी हुई है। इस बार गैस सिलेंडर (LPG Cylinder) की कीमत 25 रुपये बढ़ी है। फरवरी से  लगातार गैस सिलैडर की किमत बढ़ रहा है। ये चौथी बार है जब दाम में बढ़ोतरी हुई है। गैस की कीमत 3 बार फरवरी में बढ़ी थी और अब चौथी बार मार्च के पहले ही दिन बढ़ गई है। 

राहुल गांधी का BJP पर हमला, कहा- मुख्यमंत्री को हटाकर भारत को राह दिखाये तमिलनाडु

चार बार में गैस सिलेंडर की कीमत में  125 रुपये की बढ़त
बता दें कि चार बार में गैस सिलेंडर की कीमत में वृद्धि के साथ ही किमत 125 रुपये बढ़ चुकी है। अब गैस सिलेंडर की कीमत 819 रुपये हो चुकी है। किमत में बढ़ोतरी के बाद अब दिल्ली में 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर का दाम 819 रुपये हो गया है। वहीं उपभोक्ताओं (LPG Customer) को एलपीजी पर कोई सब्सिडी नहीं मिलती। सभी उपभोक्ताओं के लिए अब रसोई गैस सिलेंडर का दाम 819 रुपये हो गया है। बता दें कि देश में तेल के दामों में वृद्धि का असर गैस पर दिख रहा है। 

BJP विधायक ने जवाहर लाल नेहरू पर लगाया आरोप, कहा- क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की हत्या में थे शाामिल

100 का आंकड़ा पार कर गई किमत
देश में पैट्रोल और डीजल की कीमतें रिकार्ड तोड़ रही हैं। कुछ राज्यों में पैट्रोल की कीमत 100 का आंकड़ा पार कर गई है तो कुछ राज्यों में आंकड़ा 100 के आसपास है। तेल के इस खेल में पिस रही है आम जनता। तेल की कीमतें बढने का सीधा मतलब है महंगाई का बढना। विरोधी पार्टियां केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना कर रही हैं तो प्रधानमंत्री का कहना है कि हमें तेल के आयात पर निर्भरता कम करनी होगी। 

CoWIN पोर्टल पर करना होगा कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन, जानें पूरी प्रकिया

पैट्रोल 100 का आंकड़ा क्यों छू रहा
किसी सरकार का नाम लिए बिना प्रधानमंत्री ने कहा कि इस संबंध में पूर्ववर्ती सरकारों को बहुत पहले कदम उठाने चाहिए थे लेकिन यदि पूर्ववर्ती यू.पी.ए. सरकार की बात करें तो केंद्र में मोदी सरकार से पहले वर्ष 2011-12 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सरकार के समय क्रूड आयल की कीमत 112 डॉलर प्रति बैरल थी और पैट्रोल की कीमत लगभग 65 रुपए थी मगर अब जब मोदी सरकार के समय क्रूड ऑयल की कीमत 63 डॉलर प्रति बैरल के करीब है, जोकि मनमोहन सिंह की सरकार के समय से करीब 40 फीसदी कम है तो पैट्रोल 100 का आंकड़ा क्यों छू रहा है? इसके पीछे के गणित को समझना बेहद जरूरी है।      

अक्तूबर 2020 में क्रूड ऑयल 40.19 डॉलर प्रति बैरल था। तब भारत में 81.6 रुपए प्रति लीटर पैट्रोल बेचा गया। वहीं, 22 फरवरी को क्रूड के दाम 63.48 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गए। 22 फरवरी को देश में पैट्रोल 90.58 रुपए तथा डीजल 80.97 रुपए प्रति लीटर रहा। यानी सीधे 10 रुपए लीटर बढ़ा दिया गया। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.