Wednesday, Feb 19, 2020
the supreme court will soon hear the entry of women for prayers in the mosque

मस्जिद में नमाज के लिए महिलाओं के प्रवेश पर जल्द ही सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

  • Updated on 1/27/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मुस्लिम महिलाओं को मस्जिद के अंदर प्रवेश करने और नमाज की अनुमति को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई है। इस बाबत एक वरिष्ठ पत्रकार ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में एक याचिका दी है। इससे पहले  9 न्यायाधीशों की एक संविधान पीठ ने 13 जनवरी को कहा था कि यह इस व्यापक मुद्दे का निपटारा करेगी।

NPR पर रोक लगाने से SC का इनकार, केंद्र को जारी किया नोटिस

फरवरी में सुप्रीम कोर्ट सुना सकती है फैसला

कोर्ट ने कहा कि अदालतें विशेष धार्मिक आचरणों में हस्तक्षेप कर सकती है और मस्जिद में मुस्लिम महिलाओं के प्रवेश की मांग करने वाली याचिकाओं सहित अन्य याचिकाओं के समूह पर सुनवाई करेगी। पीठ जिन अन्य विषयों पर विचार करेगी, उनमें केरल के सबरीमला मंदिर में सभी उम्र की लड़कियों और महिलाओं के प्रवेश का मुद्दा तथा दाउदी बोहरा मुस्लिम समुदाय और पारसी समुदाय से जुड़े विषय भी शामिल हैं।      

निर्भया: दोषी मुकेश की SC से गुहार- दया याचिका खारिज होने के खिलाफ जल्द करें सुनवाई

याचिकाकर्ता ने दी दलील, कुरान में ऐसा है नहीं प्रावधान

मालूम हो कि पीठ द्वारा इन याचिकाओं पर फरवरी के प्रथम सप्ताह में सुनवाई करने की संभावना है।  याचिकाकर्ता जिया उस सलाम ने पीरजादे द्वारा दायर याचिका में खुद को पक्षकार बनाने का अनुरोध करते हुए कहा कि ना तो कुरान, ना ही हदीस मुस्लिम महिलाओं के मस्जिदों में प्रवेश को निषिद्ध करता है।  कई पुस्तकों के लेखक सलाम ने अधिवक्ता फारूक रशीद के मार्फत दायर अपनी याचिका में कहा कि पैगंबर मुहम्मद साहब ने खुद ही महिलाओं को मस्जिद में प्रवेश की इजाजत दी है।याचिका में कहा गया है कि पुरूष और महिला मक्का की मस्जिद- अल- हरम में नमाज अदा करते हैं और वे मदीना में अल मस्जिद अल नबवी में भी नमाज अदा करते हैं।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.