Tuesday, Jun 22, 2021
-->
the trump-administration indo-pacific strategy aims to stop china pragnt

Indo- Pacific रणनीति पर चीन ने उठाया सवाल, कहा- अमेरिका का लक्ष्य हमें रोकना

  • Updated on 1/14/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हाल ही में अमेरिका (America) का राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा एक दस्तावेज सामने आया है जिसमें हिंद प्रशांत क्षेत्र (Indo-Pacific) को लेकर एक रणनीति भी दी गई है। इस पर अब चीन (China) का रिएक्शन आया है। जिसमें उन्होंने कहा कि अमेरिका के कुछ नेताओं का एक मात्र मकसद हमे रोकना है और कुछ नहीं। चीन ने कहा कि अमेरिका के निवर्तमान डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) प्रशासन द्वारा हिंद-प्रशांत रणनीति की हिमायत का मकसद चीन को 'रोकना', क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को नुकसान पहुंचाना और क्षेत्र में अमेरिकी दादागिरी को कायम रखना है।

नेपाली पीएम केपी ओली ने बताए भारत से बहुत अच्छे संबंध, चीन को दी हिदायत

चीन ने दी तीखी प्रतिक्रिया
चीन की यह तीखी प्रतिक्रिया ऐसे वक्त आई है, जब अमेरिकी सरकार के सार्वजनिक हुए एक दस्तावेज में कहा गया है कि भारत समान सोच रखने वाले देशों के सहयोग से रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन के खिलाफ 'शक्ति संतुलन' बनाने का काम करेगा। अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ'ब्रायन ने हाल में 10 पृष्ठ के दस्तावेज को सार्वजनिक किया था और अब इसे व्हाइट हाउस की वेबसाइट पर पोस्ट किया गया है।

दुनिया में अभूतपूर्व उथल-पुथल के दौर में समय और हवा का रुख चीन के पक्ष में: राष्ट्रपति शी जिनपिंग

दस्तावेज में कहा ये
हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए 'यूएस स्ट्रैटेजिक फ्रेमवर्क' दस्तावेज में कहा गया है, 'भारत सुरक्षा मामलों पर अमेरिका का पंसदीदा साझेदार है। दोनों दक्षिण एवं दक्षिण पूर्व एशिया और आपसी चिंता वाले अन्य क्षेत्रों में समुद्री सुरक्षा बनाए रखने और चीनी प्रभाव को रोकने में सहयोग करते हैं। भारत में सीमा पर चीन की उकसावे की कार्रवाई का जवाब देने की क्षमता है।'

यूट्यूब ने कम से कम एक हफ्ते के लिए ट्रम्प के चैनल को निलंबित किया

चीन ने उठाया सवाल
दस्तावेज जारी किए जाने को लेकर पूछे गए सवाल पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा, 'कुछ अमेरिकी नेता गोपनीय दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की विरासत छोड़कर जाना चाहते हैं।' उन्होंने कहा, 'लेकिन इसकी विषयवस्तु से चीन को दबाने, इसे रोकने और क्षेत्रीय शांति एवं स्थिरता को नुकसान पहुंचाने के अमेरिका के बुरे इरादों का पता चलता है। संक्षेप में यह दादागिरी कायम रखने की रणनीति है।'

हाथ मिलाना और गले लगाना राजनीति में कहां तक सही

लिजियान ने कहा ये
लिजियान ने कहा कि अमेरिका की रणनीति ने शीत युद्ध की मानसिकता और सैन्य टकराव की सोच को जाहिर किया है जो कि क्षेत्रीय सहयोग की भावना के खिलाफ है। यह क्षेत्र में शांति और उन्नति के लिए नुकसानदेह है। उन्होंने कहा, 'अमेरिका ने खेमेबाजी करने की मंशा जता दी है। क्षेत्र में शांति, स्थिरता को नुकसान पहुंचाकर गड़बड़ी फैलाने वालों का असली चेहरा सामने आ चुका है।' विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन शांतिपूर्ण विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि चीन को उम्मीद है कि अमेरिका इस तरह की मानसिकता को छोड़ देगा।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.