Saturday, Mar 23, 2019

पुलवामा ‘हमले के विरुद्ध’ ‘मुस्लिम समाज में उठ रही आवाजें’

  • Updated on 2/21/2019

पुलवामा में सी.आर.पी.एफ. के काफिले पर पाकिस्तान समॢथत आतंकी  गिरोह ‘जैश’ द्वारा किए गए कायरतापूर्ण हमले के विरुद्ध देशभर में धरना, प्रदर्शन किए जा रहे हैं जिसमें मुस्लिम भाईचारे के सदस्य भी शामिल हैं। 

मुम्बई में कभी बंद न रहने वाले ङ्क्षभडी बाजार, मोहम्मद अली रोड, डोंगरी सहित गोवंडी, बांद्रा, जोगेश्वरी, कुर्ला, मीरा रोड का नया नगर आदि मुस्लिम इलाकों में मुस्लिम धर्म गुरु मौलाना मोइन मियां सहित रजा अकादमी, रहमानी ग्रुप आदि मुस्लिम संगठनों के आह्वान पर सन्नाटा छाया रहा। 

मौलाना मोइन मियां की अध्यक्षता में सुन्नी बिलाल मस्जिद, हांडी वाला मस्जिद और इमाम अहमद रजा चौक, ङ्क्षभडी बाजार में इकट्ठे होकर मुसलमानों ने 2 मिनट का मौन रख कर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी व दुआएं पढ़ीं। 

प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष कमर जावेद बाजवा एवं प्रधानमंत्री इमरान खान के पुतले जलाए। वे नारे लगा रहे थे ‘जैश के जल्लादों को मार गिराओ और पाकिस्तान को सबक सिखाओ।’

पुणे में बड़ी संख्या में पाकिस्तानी झंडे जलाए गए। एक झंडा व्यापारी प्रदर्शनकारियों को झंडे जलाने के लिए लाइटर मुफ्त दे रहा था।

राजधानी दिल्ली में अनेक मस्जिदों में आतंकवादी गतिविधियों के विरुद्ध प्रदर्शन कर शहीद जवानों की आत्मिक शांति के लिए प्रार्थना की गई। दारुल उलूम फरंगी महल में मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि इस्लाम हमेशा से आतंक और अन्याय के विरुद्ध रहा है। 

लुधियाना के मुसलमानों ने जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी के नेतृत्व में रैली करके विरोध जताया।

लखीमपुर में हिन्दू और मुस्लिम समुदाय के लोगों ने मिल कर पाकिस्तान की शव यात्रा निकाली और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। 

ओयल (सीतापुर) के मदरसा जामिया अरबिया में आयोजित कार्यक्रम में 2 मिनट का मौन रख कर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि दी गई।
ऌविदिशा में हिन्दू और मुस्लिम संगठनों ने मिल कर पाकिस्तान का पुतला जलाया और शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अॢपत की।

बरेली में सुन्नी बरेलवियों के केन्द्र दरगाह आला हजरत में बड़ी संख्या में जमा लोगों ने सरकार से पुलवामा आतंकी हमले का बदला लेने की मांग की। सज्जादानशीन मुफ्ती एहसान मियां ने आतंकवाद के खात्मे के लिए दुआ की। 

दरगाह प्रमुख मौलाना सुबहान रजा खान सुब्हानी तथा अन्य के नेतृत्व में मदरसा मंजर-ए-इस्लाम के छात्रों ने दरगाह पर विरोध प्रदर्शन किया और नारे लगाए ‘‘भारतीय सैनिको तुम संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं।’’ 

इस अवसर पर मदरसा मंजर-ए-इस्लाम के प्रधानाचार्य मुफ्ती आकिल रज्वी ने कहा कि देश को खून-खराबा करने वाले संगठनों से मुक्त करवाने के लिए एक सामूहिक अभियान चलाने की आवश्यकता है।

लखनऊ के बड़ा इमामबाड़ा स्थित आसिफी मस्जिद में नमाज के बाद आतंकवाद के विरुद्ध जोरदार प्रदर्शन के पश्चात इमाम-ए-जुमा मौलाना कल्बे जवाद ने सरकार से आतंक का मुंहतोड़ जवाब देने तथा टीले वाली मस्जिद पर मौलाना फजलुर्रहमान वाईजी नदवी तथा आल इंडिया शिया हुसैनी फंड के हसन मेंहदी ने पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की मांग की।

रांची में मुस्लिम समुदाय के सदस्यों ने हाथों में तख्ती लेकर और काला बिल्ला लगा कर पाकिस्तान मुर्दाबाद और आतंकवाद मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए विरोध मार्च निकाला।

आल मुस्लिम यूथ एसोसिएशन के केन्द्रीय अध्यक्ष एस. अली ने कहा कि ‘‘अब पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने का समय आ गया है। पाकिस्तान की इस कायरता की सजा उसे जरूर मिलनी चाहिए।’’ 

‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों से वादा किया था कि एक के बदले 10 लोगों के सिर काट कर बदला लिया जाएगा तो अब हम सभी मांग करते हैं कि प्रधानमंत्री 44 के बदले 440 सिर काट कर लाएं।’’

मुस्लिम समाज के सदस्यों द्वारा पुलवामा आतंकी हमले के विरुद्ध रोष स्वरूप किए गए प्रदर्शन के ये तो वे समाचार हैं जो प्रकाशित हुए हैं, इनके अलावा अन्य स्थानों पर भी मुस्लिम समाज ने प्रदर्शन करके आतंकवादियों के दुष्कृत्य के विरुद्ध रोष व्यक्त किया है।

देश के ओर-छोर से पाकिस्तान के कायरतापूर्ण हमले के विरुद्ध मुस्लिम समाज में उठने वाली आवाजें इस बात की साक्षी हैं कि संकट की इस घड़ी में हम सब साथ हैं क्योंकि : 
                                                          ‘हिदी हैं हम, वतन है हिंदोस्तां हमारा’
                                                                                                                                           —विजय कुमार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.