Thursday, Aug 11, 2022
-->
there-has-been-a-controversy-over-the-canopy-of-india-gate-in-the-past

पहले भी रहा है इंडिया गेट की छतरी पर विवाद

  • Updated on 1/22/2022

नई दिल्ली। अनामिका सिंह। भारतीय राजनीति में उथल-पूथल जिस तरह से हमेशा रही है, वैसे ही ऐतिहासिक इमारतों को लेकर भी खींचतान बनी रहती है। आजकल इंडिया गेट काफी सुर्खियों में सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। क्योंकि शुक्रवार को यहां जलने वाली अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की मशाल में विलीन कर दिया गया है। अब इंडिया गेट के ठीक पीछे बनी खाली छतरी को लेकर विवाद शुरू हो गया है क्योंकि लंबे समय से खाली पडी इस छतरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा को लगाने की बात कही है। मालूम हो कि इस छतरी के नीचे पहले ब्रिटेन के शासक जाॅर्ज पंचम की मूर्ति लगी हुई थी।
दिल्ली में भी हैं सम्राट अशोक के शिलालेख

1968 में हटवाई गई थी जाॅर्ज पंचम की मूर्ति
बता दें कि इंडिया गेट के ठीक पीछे बनी इस छतरी की शान 60 के दशक तक ब्रिटिश सम्राट जाॅर्ज पंचम की मूर्ति बढाया करती थी पर भारत सरकार ने ब्रिटिश इतिहास को एक परिधि के अंदर समेटने के लिए इस मूर्ति को साल 1968 में यहां से हटवा दिया था। सही मायने में सरकार अब देश को पूर्ण रूप से आजाद दिखाना चाहती थी, जिसके लिए यह निर्णय लिया गया था। अब ये मूर्ति कोरोनेशन पार्क की शोभा बढा रही है। यही नहीं 60 के दशक में इंडिया गेट व उसके आस-पास लगी सभी ब्रिटिश गवर्नर जैसे लाॅर्ड विलिंगडन, लाॅर्ड हाॅर्डिंग व लाॅर्ड इरविन की मूर्तियों को भी हटाकर उसे कोरोनेशन पार्क में भेज दिया गया था। तब से आज तक ये छतरी खाली थी, जिसमें अब सुभाषचंद्र बोस की प्रतिमा को लगाया जाएगा।
150 साल बाद फिर जोडा गया था अशोक स्तंभ

इंटेक ने दिल्ली हाईकोर्ट में डाली थी याचिका
60 के दशक में जब जाॅर्ज पंचम सहित सभी ब्रिटिश गवर्नरों की मूर्तियों को यहां से हटाया जा रहा था तब ब्रिटेन की लुटियन जोन ट्रस्ट ने इंडियन नेशनल ट्रस्ट आफ आर्ट एंड क्लचर हैरिटेज (इंटेक) के द्वारा दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर विरोध किया था। हाईकोर्ट के आदेश के बाद तब से  आज तक छतरी बिना अपने शासक के खाली खडी थी। वरना उस दौरान इस छतरी को हटाकर कोरोनेशन पार्क ले जाने की बात कही जा रही थी।
हवेली जो कभी थी दिल्ली की पहली कचहरी

क्या है इंडिया गेट व कोरोनेशन पार्क का इतिहास
इंडिया गेट सहित इस छतरी व ब्रिटिश सम्राट जाॅर्ज पंचम की मूर्ति को साल 19्र31 में बनाया गया था, जिसका डिजाइन सर एडवर्ड लुटियन व हार्डवर्ड बेकर ने डिजाइन किया था। जोकि पेरिस के आर्क डे ट्राॅयम्फ से प्रेरित है। इस छतरी व मूर्ति का अनावरण साल 1939 में भारत के वायसराय विक्टर होप, द मार्कस आॅफ लिनलिथगो ने किया। बता दें कि जाॅर्ज पंचम पहले ऐसे ब्रिटिश सम्राट थे जो भारत आए थे। उनकी अगुवाई व राज्याभिषेक की खुशी में 12 दिसंबर 1911 को संत नगर से बुराडी जाने वाली सडक पर कोरोनेशन पार्क का निर्माण करवाया गया था। इस पार्क में उनके आने की खुशी में कुछ सीढियों की उंचाई के बाद एक पत्थर पर 50 फुट उंची मीनार बनाई थी। फिलहाल ये पार्क दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) के पास है और यहीं सारी मूर्तियों को रखा गया है।
     
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.