Wednesday, Jun 16, 2021
-->
there-will-be-no-change-in-the-pattern-of-10th-12th-cbse-board-exam-kmbsnt

CBSE Board Exam 2021: 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के पैटर्न में नहीं होगा बदलाव

  • Updated on 3/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) से संबंधित स्कूलों में कोरोना महामारी के बाद 2 महीने आगे बढ़ाई गई 10वीं 12वीं कक्षाओं की प्रायोगिक परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं। छात्रों के अंदर मई से शुरू हो रही बोर्ड परीक्षाओं के प्रश्न पत्र पैटर्न को जानने की भी इच्छा है, क्योंकि बोर्ड ने कोविड-19 के कारण 30 फीसदी सिलेबस कम कर दिया है।

इसके अलावा कोरोना महामारी पर केंद्र द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस का भी परीक्षा के दौरान छात्रों को पालन करना होगा। बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक डॉ स्वयं भारद्वाज ने बुधवार को एक स्कूल के छात्रों से चर्चा की जिसमें उन्होंने कहा कि इस वर्ष आयोजित किए जाने वाले एग्जाम बीते वर्ष आयोजित किए जाने वाले एग्जाम की तरह ही होंगे।

अगले सत्र से दिल्ली सरकार के स्कूलों में शुरू होगा देशभक्ति पाठ्यक्रम

परीक्षा पैटर्न में कोई बदलाव नहीं
उन्होंने कहा कि परीक्षा पैटर्न में कोई बदलाव नहीं किया गया है। एक कक्षा में केवल 12 छात्रों को बैठने की अनुमति होगी। परीक्षा के दौरान छात्रों का सीटिंग अरेंजमेंट भी बदलता रहेगा। एक छात्र के सवाल कि क्या हमें डिलीट किए गए भाग से भी कांसेप्ट समझने होंगे?  इस पर शिक्षा नियंत्रक ने कहा कि जो टॉपिक इस वर्ष के लिए सिलेबस से हटाए गए हैं उनसे कोई सवाल नहीं पूछा जाएगा। 

डॉ स्वयं भारद्वाज ने कहा कि परीक्षा का प्रश्न पत्र बनाने में बहुत सारे एक्सपर्ट लगते हैं। अगर कोई सवाल हटाए गए चैप्टर से पूछ लिया जाता है तो छात्रों को वह सवाल अटेम्पट नहीं करना है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार का बोर्ड ने सैंपल पेपर जारी किया है वैसा ही प्रश्न पत्र आएगा। 

'नई शिक्षा नीति भारतीय भाषाओं को सशक्त करने की मोदी सरकार की प्रतिबद्धता दर्शाती है'

30 लाख से अधिक छात्रों के परीक्षा देने की संभावना
इस वर्ष 10वीं 12वीं में 30 लाख से अधिक छात्रों के परीक्षा देने की संभावना है। क्योंकि यह संख्या प्रति वर्ष बढ़ रही है। बात 2018 की करें तो 28 लाख 10 हजार 988 बोर्ड परीक्षा के लिए रजिस्टर हुए थे। 2019 में संख्या बढ़कर 31 लाख 14 हजार 831 हो गई। वहीं 2020 में 10वीं 12वीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्रों की संख्या में मामूली गिरावट आई।

2020 में 18.89 लाख 10वीं और 12वीं के 12.06 छात्रों ने पंजीकरण कराया। साल 2021 में आयोजित होने वाली बोर्ड परीक्षा की बात करें तो कोरोना के कारण बीते वर्ष नवी और ग्यारहवीं के छात्रों को विशेष मूल्यांकन पद्धति के से अगली कक्षा में प्रमोट किया गया है। इसलिए संख्या 30 लाख के पार जा सकती है।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.