these-health-tips-will-help-you-to-increase-your-eyesight-problem

कमजोर आंखों की समस्या का ये है बेहतर इलाज, जानिए इलाज से जुड़ी कुछ खास बातें

  • Updated on 5/20/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कमजोर आंखों की समस्या आजकल दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है जिसकी वजह से लोगों का बिना चशमें के देख पाना काफी मुश्किल हो गया है। आंखो की रौशनी कम होने के वैस तो कई कारण हैं जैसे मोबाइल, लैपटॉप, टीवी को पास से देखना और अन्य दूसरे स्क्रीन वाले गैजेट्स का इस्तेमाल करना आपकी आंखों को बहुत ज्यादा कमजोर बनाता है। ये समस्या इतनी बड़ी है कि ये हर उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले रही है फिर चाहें वो बच्चें हो या फिर बड़ें।

लेकिन खास बात तो ये है कि आजकल हर इंसान को कमजोर आंखों कि समस्या होने लगी है यहां तक कि इस समस्या के कुछ असर मधुमेह के मरीजों पर भी पढ़ता है। इस समस्या से लोग इतने ग्रसित हैं कि इससे बचने के लिए लोग अधिक से अधिक दवाईयों का सेवन करने लगते हैं। वहीं कुछ लोग इसका ज्यादा पैसे देकर मेहंगा इलाज करवाते हैं।

हर अंग को नुकसान पहुंचाता है वायु प्रदूषण

लेकिन उसके बाद भी कुछ हाथ नहीं लगता है और यही वजह होती है जो आगे जाकर वृद्धाआवस्था में दिक्कत देती है। मगर अब इस समस्या से बचने के लिए आपको ज्यादा पैसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे और न ही अधिक दवाईयों का सेवन करना पड़ेगा। क्योंकि अब आप अपनी इस समस्या का खुद से इलाज कर सकते हैं वो भी अपने घर पर बिना कोई ज्यादा पैसे खर्च किए। तो चलिए जानते हैं उन आसान तरीकों के बारे में-

Navodayatimes

अब ग्लोइंग स्किन पाने के लिए कॉस्मेटिक्स के बजाय ये घरेलू नुस्खें अपनाएं

पानी से अपनी आंखों को धोएं 

रोज सुबह उठकर या बाहार से आने के बाद आंखों पर पानी के छीटें जरूर मारे। ऐसा करने से आपकी आंखों को ठंडक मिलती है साथ ही रौशनी भी बनी रहती है। इसके अलावा ऐसा करने से डिहाईड्रेशन नहीं होता है और आंखों का तेज बना रहता है और आंखें स्वस्थ रहती हैं। 

Navodayatimes

आंखों को आराम दें 

अपनी आंखों को आराम देना बहुत जरूरी है क्योंकि ऐसा करने से आंखों का तनाव कम होता है। अपनी दोनों हथेलियों को आपस में रगड़ें और जब हथेलियां गर्म हो जाएं तो उन्‍हे हल्‍के हाथों से आंखों पर रख लें।

Navodayatimes

ई-सिगरेट की वैधता को लेकर PM मोदी को लिखा पत्र

पूर्ण रूप से आहार लें 

हफ्ते में कम से कम तीन बार मछली का सेवन करें। मछली का सेवन करने से आंखों में ड्राई-आई सिंड्रोम की समस्‍या दूर रहती है। इसके अलावा पालक का सेवन करें यह पोषक तत्‍वों से भरपूर होती है जिससे आंखों की रोशनी बढ़ती है। अपने आहार में अंडे को भी शामिल करें क्योंकि इसके अंदर प्रोटिन होता है जो आंखों की रौशनी को बढ़ाने में मदद करता है। 

Navodayatimes

आंखों की पलको को मिनट-मिनट पर झपकाए 

आपकी पलकों को लगातार झपकना एक सामान्‍य प्रक्रिया है जो आपकी आंखों को तरो - ताजा रखता है और आंखों को तनाव से दूर रखता है। अधिकतर लोग ऐसे होते हैं जो कम्‍प्‍यूटर का इस्‍तेमाल करते हैं लेकिन अपनी आंखों के साथ कोई सावधानी नहीं बरततें हैं और यही वजह है कि गैजेट्स इस्तेमाल करने वाले लोग अपनी आंखों की पलकों को कम झपकाते है, ऐसे लोगों को हर सेकेंड कम से कम तीन से चार बार अपनी आंखों को झपकाना चाहिए।

Navodayatimes

आंखों की नियमित तौर से जांच करवाएं

लोग अधिकतर गैजेट्स का इस्तेमाल करते हैं पर अपनी आंखों की देखभाल करना भूल जाते हैं और यही आगे जाकर एक गंभीर समस्या में तब्दील हो जाता है। इसलिए अपनी आंखों का देखभाल करने के लिए साल में कम से कम एक बार आंखों की जांच अवश्‍य करवाएं। यह आंखों को स्‍वस्‍थ रखने का सबसे बेहतर उपाये है। इससे आंखों में होने वाली समस्‍या से भी निजात मिल जाती है और समय पर उसका इलाज भी हो जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.