इस वजह से कम उम्र में ही युवा हो रही हैं लड़कियां, पढ़ें चौकाने वाला खुलासा

  • Updated on 12/6/2018

नई दिल्ली/आकर्ष शुक्ला। जब हम छोटे थे तो हमें बड़े होने की बहुत जल्दी रहा करती थी, हम भी अपने मम्मी-पापा की तरह जल्दी से बड़े होकर अपनी मर्जी का काम करना चाहते थे। लेकिन जब बड़े हुए तो लगता है अपना बचपन ही अच्छा था काश उसे थोड़ा और जी लिया होता।

समय के साथ चीजें बदलती हैं और हम कब बचपन से जवानी में पहुंच जाते हैं पता ही नहीं चलता। क्या कभी आपने इस बात पर ध्यान दिया है कि अपके घर या आस-पड़ोस में रहने वाले बच्चे कम समय में ही बड़े लगने लगते हैं आपको लगता है कि आप का शरीर वहीं रुका है और वह बच्चा आपके बराबर हो गया।

यह आश्चर्य लड़कियों के साथ अक्सर होता है। आपने जिसे बचपन में गोद में खिलाया था वह कुछ सालों में ही युवा हो जाती हैं। इसके पीछे खान-पान नहीं बल्कि एक बहुत बड़ी वजह है जिसे आपका जानना आवश्यक है।

सर्दियों में ज्यादा ठंड लगें तो गंभीरता से लें, हो सकता है हाइपोथर्मिया

कम उम्र में ही युवा हो रही हैं लड़कियां
लड़कों के मुकाबले लड़कियों के शरीर में तेजी से विकास होता है और वह जल्दी ही युवा हो जाती हैं। इसके पीछे मुख्य कारण होता है गर्भावस्था के दौरान मां के शरीर में अलग-अलग प्रकार के रसायनों का प्रवेश करना जो की आज हमारे चारों तरफ मौजूद है।

हाल ही में किए गए एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि लड़कियां समय से पहले युवा क्यों हो रही हैं? अमेरिका के बर्कले में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय (यूसी) के शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लड़कियों की माताओं के शरीर में गर्भावस्था के दौरान डाईइथाइल थैलेट और ट्राईक्लोसन का स्तर अधिक था, उन लड़कियों को कम उम्र में ही युवा होते देखा गया।

निजी प्रसाधन सामग्री में हानिकारक रसायन
ये रसायन जन्म से पहले ही मां के शरीर द्वारा बच्चे को मिलते रहते हैं। ऐसे रसायन आपके चारों तरफ है जिससे गर्भावस्था के दौरान दूरी बना कर रखनी चाहिए। टूथपेस्ट, मेकअप, साबुन और अन्य निजी प्रसाधन सामग्री में ये रसायन भारी मात्रा में पाए जाते हैं।

सर्दियों में ज्यादा ठंड लगें तो गंभीरता से लें, हो सकता है हाइपोथर्मिया

जरूरत से ज्यादा रसायन नुकसानदायक
यूएस सेंटर फॉर दी हेल्थ एसेसमेंट ऑफ मदर्स एंड चिल्ड्रेन ऑफ सलीनास (सीएचएएमएसीओएस) के अध्ययन के बाद एकत्रित किए गए आंकणों में कई चौकाने वाले खुलासे हुए हैं। इस सर्वे में 338 बच्चों को शामिल किया गाय था जो समय से पहले युवावस्था की ओर बढ़ रहे हैं।

यूसी बर्कले में एसोसिएट प्रोसेसर किम हर्ले ने बताया कि, हम शरीर के ऊपर से जो भी चीजें इस्तेमाल करते हैं वह हमारे शरीर में भी प्रवेश करती हैं। चाहे वह त्वचा के माध्यम से हो या श्वसन के जरिए पहुंचे आथव गलती से हम उन्हें खा लें।

हर्ले ने कहा कि जरुरत से ज्यादा रसायन हमारे शरीर के लिए नुकसानदायक होता है और गर्भावस्था के दौरान महिलाओं पर इसका बुरा असर होता है। इस दौरान महिलाओं को ऐसे प्रसाधनों से बचकर रहना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.