Sunday, Nov 28, 2021
-->
this-picture-is-opening-the-poll-of-the-countrys-quarantine-center-warning-the-government-albsnt

यह तस्वीर देश के क्वारंटीन सेंटर की पोल खोल रही...सरकार को चेतावनी दे रही...

  • Updated on 5/26/2020

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। यह तस्वीर बहुत कुछ कहती है। जो यह चीख-चीखकर सरकार को सुना रही है कि क्वारंटीन सेंटर में आखिर प्रवासी मजदूरों को किन-हालात से गुजरना पड़ रहा है। लेकिन सरकार तो इसे अनसुना करके आगे बढ़ने पर ही आमदा है। छत्तीसगढ़ (Chhatisgarh) के राजनांदगांव के नजदीक जिला कबीरधाम की तस्वीर आज कल सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। जिसमें यूजर्स सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए यह जानना चाहती है कि आखिर किया मजबूरी है कि  पत्तल और डोना के बजाए अखबारों पर ही खाना परोसा जा रहा है? लेकिन शायद ही इसके जवाब मिले।

भूपेश बघेल सरकार ने की राज्य में न्याय योजना की शुरुआत, किसानों को देंगे 7500-7500 की मदद

मालूम हो कि यह तस्वीर भले ही छत्तीसगढ़ की हो लेकिन कमोबेश देश के सभी हिस्सों में बने क्वारंटीन सेंटर में उन्नीस-बीस का ही फर्क व्यवस्था को लेकर होगा,इसमें कोई दो राय नहीं है। इसी तरह मध्यप्रदेश के गुना में बने क्वारंटीन सेंटर की एक तस्वीर सामने आई कि किस तरह से एक मजदूर दंपति मजबूर होकर शौचालय में ही खाना खाने को विवश होते है।

छत्तीसगढ़ में ‘अम्फान’ तूफान ने मचाया कोहराम, सुकमा में घायल हुए लोग

मालूम हो कि देश में 25 मार्च से ही लॉकडाउन लागू है। दरअसल यह लॉकडाउन कोरोना वायरस से बड़े पैमाने पर लोगों के बचाव के लिये एक आसान-सा तरीका समझकर लगाया गया था। लेकिन जल्द ही देश  के आधुनिक  निर्माता यानी प्रवामी मजदूरों को जिस हालात से गुजरना पड़ा है शायद उन्हें लगता है कि वे इस जिंदगी से आखिर रुखसत ही क्यों न कर गए? अगर राज्य सरकार अपने-अपने शेल्टर होम में ही अच्छे से व्यवस्था करती तो इन मजदूरों को अपने घर जाने की चिंता भी नहीं सताती। वहीं देश के बड़े-बड़े उधोगपति जिनके लिये इन मजदूरों ने दिन को दिन नहीं समझा-बस खून और पसीना ही बहाता रहा। यानी हुक्म ही बजाता रहा। आखिर में अपने पेट की भूख मिटाने के लिये दर-दर की ठोंकरे खाने को मजबूर होना पड़ा। जो इस देश की सिस्टम की बड़ी खामी की और इंगित करती है।

  

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.