Saturday, Mar 23, 2019

इस बार होली पर बन रहा ये दुलर्भ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

  • Updated on 3/20/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में हर त्यौहार का एक अपना अलग ही महत्व होता है। हर त्यौहार अपने साथ नई उमंग, नई तरंग और खुशी के नए रंग साथ लेकर आता है। ऐसा ही एक त्यौहार है होली। इस साल होली का पावन त्यौहार 20-21 मार्च को मनाया जाएगा।

पहले दिन यानी 20 मार्च को फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा को होलिका दहन किया जाएगा। होलिका दहन रात 8.57 बजे करना सर्वश्रेष्ठ रहेगा। अगले दिन यानी 21 मार्च को आपसी संबंधों में रंगों की खुशियां भरने के लिए फाग गीतों की धूम के बीच एक-दूसरे को रंग, गुलाल और अबीर लगाकर धुलंडी मनाएंगे।

जानिए, क्यों एक बच्चे के कारण भगवान शिव को छोड़ना पड़ा बद्रीनाथ

ज्योतिषों के अनुसार फाल्गुन शुक्ल पक्ष प्रदोष व्यापिनी पूर्णिमा को भद्रा रहित होलिका दहन करना सर्वश्रेष्ठ है। 20 मार्च को सुबह 10:44  बजे से पूर्णिमा शुरू होगी। इसके साथ ही शाम को 5:23 से 6.24 बजे तक भद्रा रहेगी। संयोग की बात ये है कि 21 मार्च से ही चैत्र मास की शुरुआत हो रही है। इस दौरान चंद्र कन्या तथा सूर्य मीन राशि में होंगे।

महाशिवरात्रि 2019: इस वजह से मनाई जाती है शिवरात्रि, इन दो कहानियों से जानें राज

पूजन विधि
कहते हैं होली के दिन रंगों के माध्यम से सारी दूरियां मिट जाती हैं और सब बस एक रंग के हो जाते हैं। हिन्दू धर्म शास्त्रों में होली पूजन का महत्व को विस्तार से बताया गया है।

फाल्गुन माह की हुई शुरुआत, इस महाउपाय को करने से बरकरार रहेंगी खुशियां

होली की पूजा करने से घर में सुख-शांति, समृद्धि, संतान प्राप्ति होती है। होली के दिन होलिका पर हल्दी का टीका लगाना चाहिए, एक लौटा जल चढ़ाना चाहिए और सात बार होलिका की परिक्रमा करनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.