Sunday, Oct 02, 2022
-->
three burial, 11 missing due to cloudburst in pithoragarh musrnt

पिथौरागढ़ में बादल फटने से तीन जिंदा दफन, 11 लापता

  • Updated on 7/20/2020

पिथौरागढ़/ब्यूरो। कुमाऊं के पिथौरागढ़ जिले में बारिश ने एक बार फिर तबाही बचाई है। जिले के बंगापानी तहसील के गैला टांगा में रविवार देर रात लगभग पौने दो बजे के आसपास बादल फटने से एक मकान मलबे में जमींदोज हो गया। हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई। टांगा गांव में 11 लोग लापता बताए जा रहे हैं, जबकि एक घायल है।

सूचना पर एसडीआरएफ आपदा प्रबंधन टीम, एसडीएम, विधायक घटनास्थल पर राहत कार्य में जुटे हुए हैं। दोनों गावों में ग्रामीण खोज और बचाव कार्य में जुटे हैं। यहां दो दिन से हो रही अत्याधिक बारिश होने के कारण रास्ता बहने से मार्ग बंद हो गया है। सेरा सिरतोला गांव के युवा बचाव के लिए पहुंच चुके हैं। सड़क पर मलबा आने के कारण टनकपुर-तवाघाट हाईवे बन्द हो गया है।

दुर्गम क्षेत्र और नेटवर्क न होने के कारण स्थि‍ति की सटीक जानकारी नहीं मिला पा रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी को निर्देश दिया है कि राहत और बचाव कार्य में कोई ढिलाई नहीं होनी चाहिए। उन्होंने प्रभावित लोगों को राहत राशि प्रदान करने के निर्देश भी दिए हैं।

गैला में हुए भूस्खलन की चपेट में आकर ध्वस्त मकान के मलबे में दबकर मरे तीन लोग शेर सिंह, गीता देवी और ममता के शव निकाल लिए गए हैं। हादसे में चार लोग डिगर सिंह, प्रियंका, ढीला, रुक्मिणी घायल हैं। ग्रामीणों द्वारा शव निकाले जाने के बाद मदकोट पुलिस चौकी प्रभारी मौके पर पहुंचे हैं।

चीन सीमा से लगी तीन उच्च हिमालयी घाटियों का संपर्क कटा

शनिवार को भी मनुस्यारी में बादल फटने से भारी तबाही मच गई थी। यहां के लोग डर के मारे रात को चैन की नींद सो तक नहीं पा रहे हैं। शनिवार को ही चीन सीमा से लगी तीन उच्च हिमालयी घाटियों का तहसील मुख्यालय सहित शेष जगत से सम्पर्क भंग हा गया था। बंगापानी तहसील के छोरीबगड़ स्थित तहसील मुख्यालय में पांच मकान बह गए थे एक मकान नदी किनारे लटका है, वह भी कब बह जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है।

हादसे में कई जानवर भी बह गए। गोरी नदी का जलस्तर चेतावनी लेबल को पार कर चुका है। मदकोट में मंदाकिनी ने विकराल रूप लिया है। मुनस्यारी के शीर्ष में दस हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित कुमाऊं मंडल विकास निगम का पर्यटक आवास गृह की दीवारों में दरारें पड़ चुकी हैं। डर के कारण यहां के कर्मियों ने गुफा में रात गुजारी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.