Saturday, Apr 20, 2019

तिब्बत के 14वें आध्यात्मिक गुरु 'दलाई लामा', दिल्ली के अस्पताल में हुए भर्ती

  • Updated on 4/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। तिब्बती बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा (Dalai Lama) इन दिनों बिमारी से जूझ रहे हैं। 6 अप्रैल को दलाई लामा ने दिल्ली में ग्लोबल लर्निंग कांफ्रेन्स में हिस्सा भी लिया था जिसके बाद वो धर्मशाला (Dharmashala) चले गए थे।

अब खबरें आ रही हैं 83 वर्षीय बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा की मंगलवार को सीने में दर्द हो गया था। जिसके चलते उन्हें धर्मशाला के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। अस्पताल ने चेकअप के लिए दलाई लामा को दिल्ली (Delhi) के साकेत स्थित मैक्स अस्पताल (Max Hospital) में भेज दिया गया। हालांकि सूत्रों के मुताबिक अब उनकी स्थिति में सुधार बताया जा रहा है।

खुद को ‘मिस्टर सिक्योरिटी’ बुलाते हैं इजरायल के पीएम, मोदी की तरह कर रहें चुनाव प्रचार

सूत्रों के अनुसार अस्पताल में उनका चेकअप कराया गया है। वह चेकअप के लिए नियमित तौर पर अस्पताल आते रहे हैं। हालांकि अस्पताल में उनके भर्ती होने के बाद तुरंत उनके एडमिट होने की बात की पुष्टि नहीं की जा सकती थी। इससे पहले भी कई बार दलाई लामा दिल्ली आकर अपना उपचार करवा चुके हैं।

गौरतलब है कि तिब्बतियों के 14वें दलाई लामा सन् 1959 की शुरुआत में चीनी शासन के खिलाफ विद्रोह के बाद तिब्बत (Tibet) से भागकर भारत आ गए थे। दलाई लामा ने हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के धर्मशाला को अपना ठिकाना बनाया। बता दें कि चीन तिब्बत के 14वें दलाई लामा को अलगाववादी मानता है।

विजय माल्या को लगा बड़ा झटका, UK कोर्ट ने प्रत्यर्पण के खिलाफ याचिका की खारिज

पिछले महीने दलाई लामा ने बौद्ध धर्म के आध्यात्मिक नेता (Spiritual Leader) को लेकर बड़ा बयान दिया था। दलाई लामा ने कहा था कि उनका अगला अवतार भारतत से हो सकता है, साथ ही उन्होंने आगाह करते हुए कहा था कि चीन (China) की ओर से घोषित अन्य उत्तराधिकारी को सम्मान न दिया जाएं। दलाई लामा के इस बयान का चीनी सरकार ने विरोध किया था।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस पर कहा कि ‘हम तिब्बती बौद्ध धर्म के इन परंपराओं का सम्मान और संरक्षण करते हैं, 14वें दलाई लामा की मान्यता भी धार्मिक रीति रिवाज से हुई थी और इसे चीनी सरकार ने अपनी मान्यता दी थी।’

#AirStrike की रडार इमेज देख बौखलाया पाकिस्तान, कहा- झूठ दोहरा रहा भारत

वहीं धार्मिक जानकारों का मानना है कि अगर चीन की तरफ से अगला दलाई लामा घोषित होता है तो इसकी वजह से भारत में बड़ी असहज स्थिति पैदा होने के आसार हो सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.