Friday, Jul 30, 2021
-->
tight and fit now serving in politics metro man e sreedharan interview pragnt

BJP ज्वाइन करने के बाद 'मेट्रो मैन' ई श्रीधरन ने कहा- चुस्त-तंदरुस्त हूं, अब राजनीति में सेवा

  • Updated on 2/25/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। मेट्रो मैन (Metro Man) के नाम से प्रसिद्ध दुनिया में अपनी अलग पहचान रखने वाले ई श्रीधरन (E Sreedharan) को कौन नहीं जानता। दिल्ली (Delhi) सहित देश की कई मेट्रो को स्थापित करने वाले श्रीधरन तकनीक के बड़े जानकार हैं। अब वह राजनीति में अपनी विशेषज्ञता को आजमाना चाहते हैं। राजनीति की दुनिया में उन्हें केरल के भावी मुख्यमंत्री के रूप में देखा जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के साथ वह केरल (Kerala) को विकास के रास्ते पर ले जाना चाहते हैं। नवोदय टाइम्स के लिए आशुतोष त्रिपाठी ने उनसे खास बातचीत की। प्रस्तुत हैं प्रमुख अंश...

इंस्टा के सहारे ड्रग्स गैंग ने नाबालिग को फंसाया, ड्रग्स देकर महीनों किया रेप

आप 88 वर्ष की आयु में 28 वर्ष के व्यक्ति की तरह उत्साहित हैं और राजनीति में प्रवेश कर रहे हैं। आपकी ऊर्जा का राज क्या है? 
इस उम्र में मैं पूरी तरह से चुस्त-तंदरुस्त हूं। ऐसे में केरला के विकास के लिए मैं अपनी सेवा देना चाहता हूं, काम करना चाहता हूं, तो इसमें गलत क्या है? मेरा लंबा अनुभव और ज्ञान, प्रदेश को आगे बढ़ाने में सहायक साबित होगा। जहां तक बात मेरे ऊर्जावान बने रहने की है तो व्यवस्थित तरीके से जिंदगी को जीना और महान भगवद् गीता के धार्मिक मूल्यों के प्रति मेरी आस्था इसका प्रमुख कारण है। 

मेट्रो मैन के रूप में आप लोकप्रिय हैं, एक टेक्नोक्रेट हैं और राजनीति में आपकी रुचि भी है, फिर राजनीति में आने में इतनी देर क्यों कर दी? 
विभिन्न सरकारों, हाईकोट्र्स, सरकारी एजेंसियों ने मुझ पर विश्वास जताकर बहुत सारी जिम्मेदारियां दीं, मैं उनको पूरा करने में लगा हुआ था। अब मेरी अंतिम जिम्मेदारी या यूं कहें कि कार्यभार पलारीवट्टोम फ्लाईओवर (केरल) के पुनर्निमाण के पूरा होने के साथ 5 मार्च को पूरा हो जाएगा। इस कारण मैंने सोचा कि मेरा टैलेंट और अनुभव केरल प्रदेश के काम आना चाहिए। इसी कारण मैं राजनीति के क्षेत्र में नई पारी शुरू कर रहा हूं।

पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों को लेकर PM मोदी ने दिए संकेत, मार्च के पहले हफ्ते में ऐलान संभव

अपनी तकनीकी विशेषज्ञता के साथ आपने मेट्रो स्थापित की और देश के विकास में काफी योगदान दिया, अब आप नागरिकों या केरल राज्य के लिए राजनीति के माध्यम से क्या करना चाहते हैं? 
मेरा उद्देश्य पूरी तरह से एक ही है कि मैं केरल प्रदेश का विकास, ज्ञान और तकनीक के स्तर से करूं जिससे अधिक से अधिक संख्या में रोजगार के अवसर यहां की जनता को उपलब्ध हो सकें। यहां बड़ी संख्या में शिक्षित बेरोजगार युवा हैं, जिनको काम की तलाश है। इसके साथ ही राज्य को कर्ज के कुचक्र से भी बचाना है।

आप मेट्रो-रेल के विशेषज्ञ हैं। भारतीय रेलवे के बारे में आप क्या सोचते हैं, किस स्थिति में है इतना बड़ा नेटवर्क? 
पिछले 5 वर्षों के दौरान भारतीय रेलवे की स्थिति काफी खराब हुई है। इसको लेकर मुझे काफी निराशा और दुख है। पुनर्गठन के नाम पर रेलवे की अपूरणीय क्षति हो रही है। बड़ी बात ये है कि रेलवे के लिए एक पूर्णकालिक कैबिनेट मंत्री भी नहीं है। यह सब खराब स्थिति का संकेत है।

पुद्दुचेरी को लेकर केंद्र पर भड़के राहुल, बोले- चुनी हुई सरकारों को गिराते हैं PM मोदी

भारतीय जनता पार्टी को चुनने के पीछे क्या कारण हैं? 
केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ और सीपीएम के नेतृत्व वाले एलडीएफ दोनों पर भ्रष्टाचार और घोटालों के आरोप लगे। मैं स्वभाव से, भारतीय जनता पार्टी की नीतियों और कार्यक्रमों के अनुरूप हूं, इसलिए मैंने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया। 

केरल में भाजपा लोकप्रिय क्यों नहीं है, आप इसके बारे में क्या सोचते हैं? 
भारतीय जनता पार्टी का केरल में राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित नेता नहीं है। प्रदेश बीजेपी के नेताओं के बीच आपसी मतभेद भी हैं। लेकिन, अब इनका समाधान निकाला जा रहा है। मुझे पूरी उम्मीद है कि केरल की जनता भाजपा को समझेगी और अपना समर्थन देगी।

IAS अफसर्स से बोले केरल के गवर्नर- ‘स्टील फ्रेम’ के कंधों पर नया भारत बनाने की जिम्मेदारी

भाजपा पर सांप्रदायिक होने के आरोप विपक्षी दल लगाते हैं, आप क्या सोचते हैं? 
मैं नहीं मानता कि भारतीय जनता पार्टी सांप्रदायिक है। भाजपा पिछले सात वर्षों से देश में बहुत सफलतापूर्वक शासन कर रही है और एक भी सांप्रदायिक झड़प नहीं हुई। यह इस बात का प्रमाण है कि भाजपा सभी को साथ लेकर चलती है।

केरल में भाजपा की स्थापना को लेकर आपकी क्या योजना है? 
केरल के लोगों में मेरी प्रतिष्ठा है और यहां की जनता मुझ पर भरोसा करती है। भारतीय जनता पार्टी में मेरे शामिल होने से स्थितियां बदलेंगी और मुझे यकीन है कि केरल की जनता का बीजेपी को भारी समर्थन मिलेगा। 

केरल में लव जिहादः गवर्नर ने हिंदू युवतियों के इस्लाम में धर्मांतरण पर मांगी रिपोर्ट

केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव अब दूर नहीं, होने को ही हैं। बीजेपी की संभावना क्या है? 
पिछले स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा ने केरल में अच्छा प्रदर्शन किया था। भाजपा और अन्य दलों के बीच बहुत अंतर नहीं था। अब एक नई छवि और नए अंदाज के साथ पार्टी जनता के सामने है। मुझे विश्वास है कि भारतीय जनता पार्टी विधानसभा चुनावों में काफी अच्छा प्रदर्शन करेगी। 

आप केरल की सामाजिक-राजनीतिक स्थिति के बारे में क्या सोचते हैं और क्या उम्मीद करते हैं? 
आज केरल की सामाजिक-राजनीतिक स्थिति प्रगति में सहायक नहीं है। सत्तारूढ़ राजनीतिक दलों का केंद्र सरकार के साथ हमेशा टकराव होता रहा है। अगर केरल में भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आती है तो केंद्र सरकार के साथ अच्छा तालमेल होगा और यह राज्य के लिए काफी लाभकारी साबित होगा।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.