Sunday, Dec 15, 2019
Tis Hazari violence Lawyer'' strike will continue in Delhi district courts on Wednesday

तीस हजारी हिंसा:दिल्ली की जिला अदालतों में बुधवार को भी जारी रहेगी वकीलों की हड़ताल

  • Updated on 11/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) में वकीलों (Lawyers) और पुलिस (Police) के बीच दो नवम्बर को हुई हिंसक झड़प के विरोध में दिल्ली (Delhi) की जिला अदालतों में वकील बुधवार को भी कामकाज का बहिष्कार जारी रखेंगे। सभी छह जिला अदालतों की बार एसोसिएशन ने सोमवार को यह जानकारी दी। ऑल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट बार एसोसिएशन की समन्वय समिति के अध्यक्ष महावीर सिंह शर्मा ने कहा कि सोमवार को हुई एक बैठक में निर्णय लिया गया कि वकीलों पर कथित तौर पर गोली चलाने वाले पुलिसर्किमयों की गिरफ्तारी होनी चाहिए।     

तीस हजारी हिंसा: सीबीआई उठाएगी पर्दा, वकीलों पर गोली चली तो क्यों...

इस मांग को लेकर सभी जिला अदालतों में वकील सोमवार को हड़ताल पर रहे। अदालतें मंगलवार को गुरुपर्व के उपलक्ष्य में बंद रहेंगी। नयी दिल्ली जिला अदालत बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और डिस्ट्रिक्ट कोर्ट बार एसोसिएशन के सदस्य आर के वाधवा ने कहा कि चूंकि वकील न्यायाधीश के समक्ष उपस्थित नहीं हुए, इसलिए जिला अदालतों में कोई काम नहीं हुआ।    

तीस हजारी हिंसा: 1200 से ज्यादा मोबाइल खोलेंगे तीस हजारी हिंसा का सच   

इस बीच वकीलों और बार संघों के र्किमयों ने तीस हजारी अदालत परिसर में प्रवेश करने वाले लोगों की सुरक्षा जांच जारी रखी। कीलों के साथ टकराव की आशंका से न्यायाधीशों की सहायता के लिए अदालत कक्षों में तैनात पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में आये। ऑल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट बार एसोसिएशन के महासचिव धीर सिंह कसाना ने कहा कि रविवार को ऑल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट एसोसिएशन के सदस्यों, दिल्ली पुलिस के प्रतिनिधियों और उपराज्यपाल अनिल बैजल के बीच बैठक में कोई समाधान नहीं निकल सका, जिसके चलते ये हड़ताल जारी रही।     

पुलिस-वकील में झड़प: NCW ने कहा महिला पुलिस अधिकारी पर हमले की तुरंत जांच हो

कसाना ने कहा, ‘‘हमारे सहयोग के बावजूद वकीलों पर गोली चलाने वाले पुलिसर्किमयों को गिरफ्तार करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। इसलिए दिल्ली की सभी जिला अदालतों में पूरी तरह कार्य बहिष्कार जारी रहेगा। हमारी मांग थी कि वकीलों पर गोली चलाने वाले पुलिसर्किमयों को गिरफ्तार किया जाए। गौरतलब है कि दो नवंबर को हुए टकराव में कम से कम 20 पुलिसकर्मी और कई वकील घायल हुए थे। इसके विरोध में छह जिला अदालतों के वकील चार नवंबर से हड़ताल पर हैं। 

comments

.
.
.
.
.