Monday, Oct 22, 2018

ओडिशा में तबाही मचाने वाले तूफान का नाम कैसे पड़ा 'तितली', जानिए क्या है PAK से कनेक्शन?

  • Updated on 10/12/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ओडिशा में जिस चक्रवाती तूफान 'तितली' ने कहर बरपाया हुआ है उसकी वजह से अब तक करीब 8 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और खतरा अभी भी जस का तस बना हुआ है। मरने वाले सभी लोग आंध्रप्रदेश के श्रीकाकुलम और विजयनगरम जिले के बताये जा रहे हैं। तूफान के कारण ओडिशा, आंध्रप्रदेश और झारखंड में भारी बारिश का सिलसिला जारी है।

मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में तीनों राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया है। सोचने वाली बात यह है कि करीब 150 Km/h की रफ्तार से चलने वाले इस भयावह चक्रवाती तूफान का नाम 'तितली' क्‍यों रखा गया है। जबकि तितली शांत, नाजुक और शर्मीली होती है। दरअसल, इसके पीछे भी भारत का पड़ोसी देश और दुश्मन पाकिस्तान का हाथ है।

आइए हम आपको बताते हैं कि कैसे इस खतरनाक तूफान का नाम 'तितली' पड़ा और इसके पीछे पाकिस्तान का क्या कनेक्शन है?

'तितली' तूफान के कारण अब तक 8 लोगों की मौत, आंध्र और ओडिशा में भारी तबाही

तूफानों का नामकरण
हिंदमहासागर में हर साल अलग-अलग तरह के चक्रवाती तूफान आते रहते हैं। इन तूफानों का असर 8 देशों (भारत, बांग्‍लादेश, मालदीव, म्‍यांमार, ओमान, पाकिस्‍तान, श्रीलंका और थाइलैंड) पर पड़ता है। इसलिए साल 2000 से ऐसी परंपरा शुरू हुई थी कि ये सभी आठ देश अपने-अपने हिसाब से तूफानों का नामकरण करेंगे।

साल 2004 में सभी देशों के बीच तूफानों के नाम रखे जाने को लेकर सहमि‍त बनीं। सभी आठ देशों द्वारा कुल 64 नाम चुने गए हैं। इनमें सभी देशों ने अपनी तरफ से आठ नाम दिए हैं। इन नामों की सूची World Meteorological Organization (WMO) के पास सुरक्षित रखी गई है जिसका मुख्यालय जेनेवा में है। अब हिंदमहासागर में जब भी कोई तूफान आता है तो WMO सीरियल के आधार पर उस लिस्‍ट में आने वाले नाम पर तूफान का नाम रख देता है।

एक किलो मसूर की दाल से बनी दुर्गा की प्रतिमा, एक मूर्ति की कीमत 40 हजार

पाकिस्‍तान ने दिए हैं दिलचस्प नाम
जब तूफानों का नाम रखने की बात आई तो सभी देशों ने अपनी लिस्ट WMO को सौंप दी। भारत की ओर से अग्नि, आकाश, बिजली, जल, लहर, मेघ, सागर और वायु जैसे 8 नाम दिए गए हैं, वहीं पाकिस्तान ने बड़े ही दिलचस्प नाम दिए। पाक की ओर से फानूस, लैला, नीलम, वरदाह, तितली और बुलबुल के अलावा 2 और नाम दिए हैं।

तो इस बार आए तूफान का नाम WMO सीरियल के आधार पर तितली होता है, इसलिए इसे चक्रवाती तूफान 'तितली' से बुलाया जाता है जो पाकिस्‍तान के द्वारा दिया गया है। जबकि इससे पहले पिछले साल मई में जो तूफान आया था 'ओखी' उसे बांग्‍लादेश की ओर से दिया गया था। साल 2013 में आए तूफान को 'फेलिन' कहा गया जो कि थाइलैंड की ओर से दिया गया नाम था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.