Saturday, Nov 17, 2018

प्रदूषण से बचना है तो ऐसे मनाए दिवाली, हवा नहीं होगी जहरीली

  • Updated on 11/3/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  दीपावली दस्तक दे चुकी है और इस पर्व की तैयारियों में सभी जोर शोर से जुट गए हैं। वही एक तरफ पटाखे जलाने से होने वाले प्रदूषण को भी लेकर पूरे देश में चर्चा का माहौल है। दिल्ली एनसीआर और आसपास के इलाको में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों पर बैन लगा दिया है। साथ ही इन्हें जलाने के लिए एक समय निश्चित कर दिया है। 

अगर आप दिवाली पर पटाखों से होने पर प्रदूषण और जहरीली हवा से खुद को बचाना चाहते हैं तो आपको कुछ बातों को ध्यान रखना होगा। आएये जानते हैं कि प्रदूषण से बचने और दिवाली पर पटाखों दवा में जहर ना घुले इसके लिए क्या उपाय और सावधानियां बरतें...

दिवाली के पटाखों में इस्तेमाल होने वाले केमिकल्स, 6 खतरनाक बिमारियों की हैं जड़

अगर घर में कोई अस्थामा या सांस से जुड़ी किसी अन्य बीमारी का मरीज है जो उसे घर से बाहर ना निकलने दें। अगर जाना भी पड़े तो साथ मास्क पहनकर ही बाहर निकलें। 

घर पर दिवाली से पहले होने वाली सफाई से काफी सारा कचरा निकलता है। ऐसे में घर से बाहर निकलने वाले कचरे को घर के आसपास ना फेंके। इस कचरे में कई तरह का अजैविक सामान भी होता है जो आसपास के इलाकों में कचरा फैलाता है, इससे बचें। 

दिल्ली के प्रदूषण में कारगर होगा केवल इस क्वालिटी वाला मास्क

अगर पटाखें जालाने का समय निश्चित किया गया है तो उस निश्चित समय में ही पटाखें जलाएं और तेज आवाज वाले पटाखों को जलाने से बचें। तेज आवाज के कारण दिल के मरीजों को खतरा रहता है। 

कहा जाता है कि मनुष्य के लिए 50 जेसीबल से ज्यादा का शोर घातक होता है खासतौर से कान के पर्दों को इससे ज्यादा शोर खराब कर सकता है। लेकिन आमतौर पर जिसतरह के पटाखें और बम फोड़ते हैं ये सभी 100 डेसीबल से ज्यादा के होते हैं जो एक आम इंसान के लिए काफी खतरनाक है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.