Monday, Nov 29, 2021
-->
to-know-the-problems-of-children-through-child-convergence-facility-camp

बाल अभिसरण सह सुविधा शिविर के जरिए बच्चों की परेशानियों को जाना

  • Updated on 9/28/2021

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। कोविड 19 महामारी ने उन बच्चों के लिए काफी परेशानी खडी कर दी है जो इस बीमारी के चलते अनाथ हो गए हैं। कोरोना में अपने माता-पिता को खो चुके बच्चों की सुरक्षा और पुनर्वास की व्यवस्था दिल्ली सरकार का महिला एवं बाल विकास विभाग (डब्ल्यूसीडी) विशेष रूप से कर रह है। अभी तक विभाग ने जिला बाल संरक्षण इकाइयों और अन्य क्षेत्र पदाधिकारियों के माध्यम से ऐसे सभी बच्चों तक पहुंचने का प्रयास किया है और समय-समय पर बाल कल्याण समितियों के समक्ष उचित आदेश भी जारी किए हैं। बीते दो दिनों से विभाग बाल अभिसरण सह सुविधा शिविर का आयोजन कर बच्चों की सुरक्षा को ओर पुख्ता करने में लगा हुआ है।
जाने क्या है मंडी हाऊस के नाम का इतिहास

जिलावार हुआ था शिविरों का आयोजन
बता दें कि जिला बाल संरक्षण इकाइयों से प्राप्त जानकारी के आधार पर डाटा बेस तैयार किया गया है। डाटा के विश्लेषण के साथ ही साथ बाल कल्याण समितियों और जिला बाल संरक्षण अधिकारियों से प्राप्त फीडबैक पर यह अनिवार्य महसूस किया गया है कि ऐसे बच्चों को विभिन्न योजनाओं में समयबद्ध तरीके से नामांकित करने के लिए सक्रिय कदम उठाए जाएं। उन बच्चों को मुख्यमंत्री कोविड 19 परिवार आर्थिक सहायता योजना और पीएम केयर्स पोर्टल के साथ प्रक्रिया में आने वाली बाधाओं को दूर कर सुविधा प्रदान किए जाने पर काम किया जा रहा है। इसी लिए एक विशेष अभियान आधारित और मिशन मोड दृष्टिकोण अपनाते हुए ‘बाल अभिसरण सह सुविधा शिविर 27 व 28 सितंबर को सुबह 10 से शाम 5 बजे तक आयोजित किया गया। इन शिविरों का आयोजन जिलावार किया गया था, जिसमें टास्क फोर्स के सदस्यों की भागीदारी सुनिश्चित की गई थी।
एनडीएमसी पशु चिकित्सा अस्पताल में मना विश्व रेबीज दिवस

पूर्ण रही शिविर में व्यवस्था
बता दें कि इस दौरान जिला इकाइयों ने स्वच्छता के साथ शिविर में बैठने, पानी की व्यवस्था, कंप्यूटर, स्टेशनरी, स्वच्छता सामग्री आदि उपलब्ध करवाया था। इस दौरान कोविड प्रोटोकाॅल का पूरी तरह पालन किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.