Saturday, Mar 23, 2019

महाशिवरात्रि पर कुंभ का आखिरी स्नान आज, 25 लाख श्रद्धालु लगा चुके हैं डुबकी

  • Updated on 3/4/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महाशिवरात्रि पर सोमवार को कुम्भ मेले का आज अंतिम स्नान है। आज में 50-60 लाख श्रद्धालुओं के गंगा और संगम में स्नान करने के संभावना है। प्रयागराज से मिल रही जानकारी के अनुसार अभी तक 25 लाख लोगों ने स्नान कर लिया है।  

महाशिवरात्रि का स्नान कुम्भ मेले का अंतिम स्नान है और इसके साथ मेला संपन्न हो जाएगा। अब तक कुम्भ मेले में 22 करोड़ लोग स्नान कर चुके हैं। यहां मीडिया सेंटर में संवाददाताओं से बातचीत में कुम्भ मेलाधिकारी विजय किरण आनंद ने बताया कि मेले के अंतिम स्नान पर्व महाशिवरात्रि पर मेला प्रशासन संगम क्षेत्र पर खास ध्यान दे रहा है क्योंकि महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ने से ज्यादा से ज्यादा लोग संगम की ओर आएंगे।

मेला डीआईजी केपी सिंह ने बताया कि महाशिवरात्रि का मुहूर्त रात्रि 1 बजकर 26 मिनट पर लगा और कुछ देर बाद से ही श्रद्धालुओं ने स्नान करना आरंभ कर दिया। अंतिम स्नान पर्व पर 50- 60 लाख लोगों के स्नान करने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि अब तक करीब 22 करोड़ लोग कुंभ के दौरान गंगा में डुबकी लगा चुके हैं। सिंह ने बताया कि लोगों की सुरक्षा के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया जाएगा।

सिंह ने बताया कि मेला क्षेत्र में यातायात सुव्यवस्थित रखने के लिए आज रात 12 बजे से वाहनों का प्रवेश मेला क्षेत्र में प्रतिबंधितकर दिया गया है। लोगों को केवल 14,15 और 16 नंबर पांटून पुल से आने की अनुमति दी जा रही है। मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं का आना रविवार से शुरू हो चुका है।

उन्होंने बताया कि मेले के दौरान खोया पाया केंद्र में कुल 29,337 लोग गुमशुदा पंजीकृत हुए जिसमें 15,730 महिलाएं थीं। हालांकि 762 लोगों को छोड़कर बाकी लोगों को उनके परिजनों से मिला दिया गया। इन 762 लोगों के परिजनों से अभी तक संपर्क नहीं हो सका है।

सिंह ने बताया कि महाशिवरात्रि पर मेला प्रशासन ने शिव मंदिरों में दर्शन की विशेष व्यवस्था की है क्योंकि इस दिन शिवलिंग का रुद्राभिषेक भी किया जाता है और इस बार खास संयोग बना है कि महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.