today prime minister modi will be honored with the highest civilian honor in the uae

UAE में बोले PM मोदी- अनुच्छेद 370 के कारण आतंकवाद की मार झेल रहा था कश्मीर

  • Updated on 8/25/2019

नई  दिल्ली/टीम डिजिटल। यूएई के दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक इंटरव्यू में कहा कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाना भारत का आंतरिक मामला है और इसी के कारण कई दशकों से कश्मीर आतंकवाद की मार झेल रहा था। इसके साथ ही उन्होंने बिना नाम लिए पाकिस्तान को भी कड़ा संदेश दिया। पीएम मोदी ने कहा कि जो देश आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं और इनके पनाह के अड्डे बन गए हैं उन्हें इसका रास्ता छोड़ना पड़ेगा।

इससे पहले फ्रांस की यात्रा के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को अबूधाबी के लिए रवाना हो गए। पीएम मोदी शुक्रवार की रात को एयर पोर्ट पर पहुंचे। मोदी शनिवार को क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान से मुलाकात करेंगे। दोनों देशों की इस मुलाकात के दौरान आतंकवाद और अंतरराष्ट्रीय हितों पर बात होगी। प्रधानमंत्री मोदी की यह यात्रा इसलिए भी सबसे खास है क्योंकि उन्हें UAE के सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया जाएगा।

IND vs WI: ईशांत शर्मा के परफेक्ट पांच के दम पर लड़खड़ाई वेस्टइंडीज की पारी

यूएई में क्राउन प्रिंस से मुलाकात के बाद शनिवार को उन्हें सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार दिया जाएगा। खुद पीएम मोदी ने कहा कि इस पुरस्कार को लेकर मैं काफी एक्साइटेड हूं। उन्होंने कहा कि यह सम्मान इस बात को दिखाता है कि भारत और यूएई के संबंध कितने मजबूत हैं। एक जानकारी के अनुसार पीएम मोदी यूएई में कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए वहां रुपे कार्ड को भी जारी कर सकते हैं।

Image result for मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान

7 वनडे मैच खेलने वाले विक्रम राठौड़ के गुर से भारतीय बल्लेबाजी को मिलेगी धार

अपनी यूएई की यात्रा के बाद पीएम मोदी G-7 सम्मेलन में भाग लेने के लिए फ्रांस जाएंगे। भारतीय समयानुसार दिन में 2 बजे UAE का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ऑर्डर ऑफ जायद दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह सम्मान सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि यह भारत की पूरी जनता का सम्मान। प्रधानमंत्री मोदी महात्मा गांधी की 150वीं जयन्ति के अवसर पर एक डाक टिकट जारी करेंगे।

कांग्रेस में दिखने लगा भाजपा का डर, इन दो नेताओं ने पीएम मोदी के लिए बदले अपने सुर

आपको बता दें कि यह पीएम नरेंद्र मोदी का तीसरा यूएई दौरा है। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा कि भारत और यूएई के रिश्ते हजारों साल पुराने हैं और दोनों देशों के रिश्तों की कोई सीमा नहीं है। आपको बता दें कि इससे पहले यूएई ने कश्मीर से  अनुच्छेद 370 हटाए जाने के मामले में भी भारत का साथ दे चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.