Friday, Apr 19, 2019

Navratri 2019: झंडेवालान देवी मंदिर में लगा भक्तों का तांतां, आज होगी मां स्कंदमाता की पूजा

  • Updated on 4/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कार्तिकेय यानि स्कंदकुमार को जन्म देने वाली माता स्कंदमाता की पूजा नवरात्रि के पांचवे दिन यानि आज की जाएगी। नवरात्रि पूजन के पांचवे दिन का शास्त्रों में पुष्कल महत्व बताया गया है।

इस चक्र में साधक की सभी बाह्य क्रियाओं एवं चित्तवृत्तियों का लोप हो जाता है। इस दौरान साधक को बालरूप स्कंद भगवान की उपासना भी करनी चाहिए। स्कंदमाता चारभुजाधारी होती हैं।

देशभर में मची नवरात्रि की धूम, आज मां कुष्मांडा की होगी पूजा

इनके दाहिनी तरफ की नीचे वाली भुजा में कमलपुष्प है जबकि बाईं तरफ की ऊपर वाली भुजा वरमुद्रा में तथा नीचे वाली भुजा जो ऊपर की ओर उठी है उसमें भी कमल पुष्प होता है। इनका रंग सफेद होता है।

कमल के आसन पर विराजमान होने की वजह से इन्हें पद्मासना देवी भी कहते हैं, वैसे यह सिंह पर भी विराजमान रहती हैं। सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री देवी होने के कारण इनका उपासक अलौकिक तेज एवं कांति से संपन्न हो जाता है। 

Navratri special: माता दुर्गा के चौथे रूप कुष्मांडा की पूजा इस मंत्र के बिना है अधूरी

प्रसिद्ध शक्तिपीठ बद्री भगत झंडेवालान देवी मंदिर में सुबह से लगी दर्शनार्थियों की भीड़
नवरात्रि के चौथे दिन मां दुर्गा के चतुर्थ स्वरूप मां कुष्मांडा की अराधना व दर्शन करने के लिए प्रसिद्ध शक्तिपीठ बद्री भगत झंडेवाला देवी मंदिर में दर्शनार्थियों की भीड़ देखने को मिली। झंडेवाला मंदिर में नौ दुर्गा के प्रतिरूप को रखा गया है और अखंड ज्योत यहां जलाई गई है।

कहा जाता है कि इस अखंड ज्योत के दर्शन मात्र से ही भक्तों के कष्टों का अंत हो जाता है। इस शक्तिपीठ की ख्याति पूरे विश्व में है जिसके चलते देश ही नहीं बल्कि विश्व के कई देशों से भक्तगण मां के दरबार में अर्जी लगाने यहां आते हैं।मान्यता है कि मां कुष्मांडा का निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है।

जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था और चारों ओर अंधकार ही अंधकार था तब इन्हीं देवी ने अपने इष्ट हास्य से ब्रह्माण्ड की रचना की थी। इससे पहले ब्रह्माण्ड का कोई भी अस्तित्व नहीं था। पूरे दिन मां कुष्मांडा के दर्शन करने के लिए भक्तगण हाथों में प्रसाद की थाली लिए जय-जयकारे लगाते दिखाई दिए। वहीं मंगलवार होने की वजह से मंदिर की महिला मण्डली द्वारा मां भगवती का गुणगान किया गया।

ये नवरात्रि है कुछ खास, बन रहे कई अद्भुत संयोग

श्रद्धालुओं के लिए भंडारे की व्यवस्था की गई, वहीं व्रतधारियों के लिए भी नि:शुल्क चाट-पकौड़ी की व्यवस्था भी की गई। दोपहर को जहां विजय रहेजा एंड पार्टी द्वारा मां का महिमा मंडन किया गया, वहीं शाम को पंकज  राज एंड पार्टी द्वारा सुंदर गीतों की प्रस्तुति की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.