Tuesday, Nov 30, 2021
-->
tomato-spoiled-the-taste-of-the-dish-in-weddings

टमाटर ने बिगाड़ा शादियों में पकवान का स्वाद

  • Updated on 11/24/2021

नई दिल्ली। अनामिका सिंह। शादियों के सीजन में बनने वाले पकवानों खासकर सब्जी से उसका स्वाद गायब होता जा रहा है। जिसकी वजह टमाटर के रेट का 100 रूपए किलो के पार हो जाना है। हाल यह है कि हलवाई अब टमाटर की जगह सब्जी में अमचूर, इमली व आंवले को उबालकर उसके पानी का प्रयोग कर रहे हैं। यह हाल सिर्फ शादियों का ही नहीं बल्कि घर में बनने वाली सब्जियों का भी है। महिलाएं भी अब यही ट्रीक खाने के दौरान आजमा रही हैं। टमाटर के दाम बढऩे के पीछे की वजह थोक में दाम का बढऩा बताया जा रहा है। 
ट्रेड फेयर में खादी पवेलियन में ग्रामीणों की दिख रही है आत्मनिर्भरता

टमाटर की फसल हुई बारिश से बर्बाद, जिससे पड़ा दामों पर असर
इस बाबत पूछे जाने पर गाजीपुर सब्जी मंडी के चेयरमैन एसपी गुप्ता ने बताया कि मंडी में टमाटर का होलसेल रेट 60 रुपए किलो तक पहुंच गया है। जबकि खुदरा मार्केट में 100 रूपए प्रतिकिलो दाम चल रहा है। वहीं मंडी में लगातार आवक घटने का भी असर टमाटरों के दामों पर साफ दिख रहा है। उन्होंने बताया कि गाजीपुर में सिर्फ 100 टन के आसपास रोजाना टमाटर पहुंच रहा है। यह टमाटर मध्यप्रदेश की सीकरी से आ रहा है। जबकि शिमला, राजस्थान और बेंगलुरू के टमाटर नहीं पहुंच रहे। दाम बढऩे की वजह इस साल होने वाली अधिक बारिश को बताया जा रहा है, जिसने कई राज्यों में टमाटर की फसलों को बर्बाद कर दिया है। हालांकि दिसंबर के मध्य तक टमाटर के दामों में नरमी आ सकती है जब कर्नाटक से टमाटर की खेप आनी शुरू हो जाएगी। वहीं एशिया की सबसे बड़ी आजादपुर सब्जी मंडी में 20 नवंबर को 307.9 टन टमाटर की आवक हुई है। इसमें हिमाचल प्रदेश से हिमसोना, कर्नाटक से देसी और हाईब्रिड, महाराष्ट्र से हाईब्रिड और हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश से गोली वैरायटी में टमाटर आते हैं। आजादपुर मंडी में भी दो दिन पहले तक टमाटर का होलसेल रेट करीब 50 रुपए था। 
आयोग ने तस्कर गिरोह की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस को भेजा नोटिस

बिगड़ जाएगा हमारा बजट
केटरिंग का काम करने वाले विनोद कुमार ने बताया कि उन्होंने शादियों के लिए खाना बनाने का टेंडर अगस्त-सितंबर में ही ले लिया था। तब टमाटर के दाम 35 रूपए चल रहे थे अब थोक दाम 60 रूपए पहुंच गए हैं। ऐसे में यदि अमचूर का प्रयोग सब्जी में नहीं करेंगे तो हमारा बजट बिगड़ जाएगा। क्योंकि अधिकतर बुकिंग करवाने वाले तय रेट से अधिक देने के लिए तैयार नहीं हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.