Tuesday, Dec 07, 2021
-->
top-10-deadliest-cyclones-in-india

अब 'गाजा' ने दी दस्तक, इससे पहले कई तूफानों ने किया भारत में तांडव

  • Updated on 11/15/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश और दुनिया में लगातार बाढ़, सूखा, भूकंप और तूफान आ रहे हैं। हाल ही में तितली तूफान ने भारत में तांडवा मचाया छा। जिसने जन जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया अब तमिलनाडु में भी यहीं खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान 'गाजा' चेन्नई से करीब 400 km दूर है और उम्मीद ये लगाई जा रही है कि आज ये तूफान कुड्डलूर के आस पास के क्षेत्रों में आ सकता है। 

मौसम विभाग की माने तो 'गाजा' आज शाम या रात तक क्षेत्र में दस्तक दे सकता है। मौसम विभाग ने इसके लिए अलर्ट भी जारी किया है और माना जा रहा है कि इस दौराम करीब 100 km/h की रफ्तार से हवा चलेगी। चलिए जानते है कुछ ऐसी ही तूफानों के बारे में जिन्होंने इतिहास में जन जीवन को बुरी तरह अस्त वियस्त किया था। 

तो इस आधार पर तूफानों को दिए जाते हैं अनोखे नाम, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

2018 तितली 

Navodayatimes

ओडिशा में चक्रवाती तूफान तितली और उसके बाद हुए भूस्खलन में चार और लोगों के मारे गए। चक्रवाती तूफान तितली और उसके बाद आई बाढ़ से राज्य के 17 जिलों में 2.7 लाख हेक्टेयर की फसल को नुकसान पहुंचा है। सरकारी आकलन के अनुसार तूफान और बाढ़ से कुल 2770.28 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। 

ओखी तूफान 2017
पिछले साल ओकी तूफान ने श्रीलंका के बाद सबसे पहले भारत के केरल और तमिलनाडु के तटीय क्षेत्रों में इसने दस्तक दी थी। इसके बाद इस तूफान ने मुंबई और सूरत की और रुख किया। चक्रवाती तूफान ओखी के तमिलनाडु और केरल तटों से टकराने के बाद 39 लोग मारे गए और 167 मछुआरे अब भी लापता हैं जबकि 809 अन्य पानी के बहाव के साथ महाराष्ट्र तट पर पहुंच गएष इस तूफान ने मंबई से लेकर केरल तक में भारी तबाही मचाई थी। 

2014 में हुदहुद ने मचाई थी तबाही

Navodayatimes

12 अक्टूबर, 2014 को ओडिसा एवं आंध्र प्रदेश में हुदहुद की दस्‍तक से दोनों राज्‍य सहम गए थे। एनडीआरएफ़ ने क़रीब चार लाख लोगों को सुरक्षित इलाक़ों में पहुंचाया था। इस घटना में छह लोगों की मौत हुई थी। तूफ़ान से विशाखापत्तनम समेत आंध्र प्रदेश के दो अन्य तटवर्ती ज़िलों श्रीकाकुलम और विजयनगरम में जनजीवन पूरी तरह अस्तव्यस्त हो गया था। चक्रवात की गति 170 से 195 किलोमीटर प्रतिघंटे थी। भारतीय नौसेना और एनडीआरएफ की टीम ने राज्‍य को भारी त‍बाही से बचाया था।

चक्रवाती तूफान 'गाजा' आज तमिलनाडु में देसकता है दस्तक, अलर्ट जारी

2013 में फैलियन से सहमा था आंध्र 
12 अक्टूबर, 2013 को फैलिन या पायलिन एक तीव्र उष्णकटिबंधीय चक्रवात है। अंडमान सागर में कम दबाव के क्षेत्र के रूप में उत्पन्न हुए फैलिन ने नौ अक्टूबर को उत्तरी अंडमान निकोबार द्वीप समूह पार करते ही एक चक्रवाती तूफान का रूप ले लिया था। इस चक्रवात ने सबसे ज्यादा नुकसान ओडिशा और आन्ध्र प्रदेश को किया था। 12 अक्टूबर 2013 करीब 9 बजे इसने ओडिशा तट पर इसने दस्तक दी थी।

हेलेन चक्रवात 2013

Navodayatimes

चक्रवात हेलेन ने पूर्वी भारत में भारी बारिश लाई और देखते ही देखते ये गंभीर चक्रवात तूफान बन गया। चक्रवात तूफान हेलेन बंगाल की खाड़ी से उठा था। 

ओडिशा में तबाही मचाने वाले तूफान का नाम कैसे पड़ा 'तितली', जानिए क्या है PAK से कनेक्शन?

नीलम तूफान 2012 
तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाके में चक्रवाती तूफान ‘नीलम’ आया। इसमें दो लोगों की मौत हुई। तूफान की गति 110 किमी प्रति घंटा थी।

1970 अबतक का सबसे खतरनाक तूफान भोला 

Navodayatimes

भोला चक्रवाती तूफान 8 नवंबर 1970 को बंगाल की खाड़ी से शुरू हुआ था और 12 नवंबर को पूर्वी पाकिस्तान जो अब बांग्लादेश बन चुका है वहां पर पहुंचकर कहर बरपाने लगा। इस चक्रवाती तूफान की भयावहता का अंदाजा आप उस बात से लगा सकते हैं जब है कि इसके प्रभाव में आने से मरने वाले लोगों की संख्या करीब 5 लाख तक बताई जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.