Sunday, Sep 26, 2021
-->
tractor-parade-of-farmers-caused-heavy-jam-traffic-affected-in-many-parts-of-delhi-prshnt

किसानों की ट्रैक्टर परेड की वजह से दिल्ली के कई हिस्सों में भारी जाम, यातायात प्रभावित

  • Updated on 1/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। किसानों की ट्रैक्टर परेड (Kisan Tractor Rally) के चलते राष्ट्रीय राजधानी में कई क्षेत्रों में यातायात बूरी तरह से प्रभावित हुआ है। दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्विटर पर स्थिति की जानकारी दी। उसने ट्वीट किया, जीटीके रोड, आउटर रिंग रोड, बादली रोड, केएन काटजू मार्ग, मधुबन चौक, कंझावला रोड, पाला रोड, नरेला और डीएसआईडीसी नरेला रोड पर भारी जाम है। वजरीबाद रोड, आईएसबीटी रोड, जीटी रोड, पुष्ता रोड, विकास मार्ग, एनएच-24, रोड संख्या-57, नोएडा लिंक रोड पर भी काफी जाम है। इन मार्गों पर जाने से बचें।

जीटीके रोड, आउटर रिंग रोड, बादली रोड, केएन काटज़ू मार्ग, मधुबन चौक, कंझावला रोड, पल्ला रोड, नरेला और डीएसआईडीसी नरेला सड़कों पर यातायात बहुत भारी है। 

वजीराबाद रोड, आईएसबीटी रोड, जीटी रोड, पुश्ता रोड, विकास मार्ग, एनएच -24, रोड नंबर पर ट्रैफिक बहुत भारी है। 57, नोएडा लिंक रोड। कृपया इन सड़कों से बचें।

एनएच 44, जीटीके रोड, आउटर रिंग रोड, सिग्नेचर ब्रिज, जीटी रोड, आईएसबीटी रिंग रोड, विकास मार्ग, आईटीओ, एनएच 24, निजामुद्दीन खट्टा, नोएडा लिंक रोड, पीरागढ़ी और आउटर दिल्ली, पूर्व और पश्चिम दिल्ली सीमा क्षेत्रों से बचें। चल रहा किसान विरोध।

मिंटो रोड, शंकर रोड से तालकटोरा रोड तक मूवमेंट बंद है,  मोटर चालकों को वैकल्पिक मार्ग लेने की सलाह दी जाती है।

कापसहेड़ा चौक से बिजवासन रोड तक आवाजाही बंद है। कापसहेड़ा बॉर्डर और समालखा टी पॉइंट से डायवर्सन दिया जाता है, द्वारका मोर से उत्तम नगर ईस्ट मेट्रो स्टेशन तक ट्रैफिक मूवमेंट बंद है। द्वारका मोर से डायवर्सन दिया गया है।

दिल्ली के विभिन्न सीमा बिंदुओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के ट्रैक्टर के जरिए अवरोधक हटाने और राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैक्टर परेड निकालने के लिए निर्धारित मार्ग का अनुसरण ना करने पर पुलिस ने कई जगह आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज किया। दिल्ली पुलिस ने राजपथ पर आधिकारिक गणतंत्र दिवस परेड समाप्त होने के बाद ही किसानों को निश्चित मार्गों पर ट्रैक्टर परेड निकालने की अनुमति दी थी। किसानों के मध्य दिल्ली की ओर जाने पर अड़ने से अराजकता की स्थिति उत्पन्न हुई।

 

बता दें कि गणतंत्र दिवस के दिन केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों संख्या में किसान ट्रैक्टर लेकर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रवेश कर चुके हैं। पिछले दो महीनों से अधिक समय से आंदोलन कर रहे किसान आज 26 जनवरी के मौके पर ट्रैक्टर रैली कर रहे हैं। इस दौरान कई जगहों से पुलिस और किसानों के बीच हिंसक झड़प देखने को मिल रही है। किसानों ने कई जगह बैरिकेड्स को तोड़ दिए हैं। उन्हें पुलिस ने रोकने की कोशिश भी की है जिसके जवाब में दिल्ली पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। अपने किसान साथियों पर लाठीचार्ज होते देख एक किसान ने तलवार लेकर पुलिसवालों को दौड़ा दिया। 

 

किसानों की पुलिस के साथ झड़प हुई। इसके बाद पुलिस ने किसान समूहों पर आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया। वहीं प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरों से हमला किया। इस झड़प पर किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि आंदोलन को खराब करने वाले लोग राजनीतिक दलों के हैं।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा, 'हमारे सब लोग शांतिपूर्ण तरीके से जा रहे हैं। जो लोग गड़बड़ फैलाने की कोशिश कर रहे हैं वो चिन्हित हैं। वो राजनीतिक दल के लोग हैं और इस आंदोलन को खराब करना चाहते हैं।

जब राकेश टिकैत से पूछा गया कि ऐसे आरोप हैं कि विरोध प्रदर्शन किसान नेताओं के हाथों से निकल गए हैं तो उन्होंने कहा कि हम उन लोगों को जानते हैं जो अशांति पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। उनकी पहचान की गई है। ये राजनीति दलों के लोग हैं जो आंदोलन को भड़काने की कोशिश कर रहे हैं।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.