Friday, Dec 03, 2021
-->
tractor parade violence high level judicial inquiry into cases registered on farmers

ट्रैक्टर परेड हिंसा : किसानों पर दर्ज मामलों की हाई लेवल न्यायिक जांच हो: किसान यूनियन

  • Updated on 2/13/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों ने 26 जनवरी को अपनी ‘ट्रैक्टर परेड’ के दौरान हुई हिंसा की घटना और किसानों के खिलाफ दर्ज किये गये कथित ‘‘झूठे’’ मामलों की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच कराए जाने की शनिवार को मांग की। 

AAP ने भाजपा शासित MCD के महापौर जय प्रकाश पर लगाए गंभीर आरोप

संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने सिंघू बॉर्डर पर संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जिन किसानों को पुलिस के नोटिस मिल रहे हैं, वे उसके (पुलिस के) समक्ष प्रत्यक्ष रूप से पेश न हों, बल्कि सहायता के लिए किसान यूनियनों द्वारा गठित कानूनी प्रकोष्ठ से संपर्क करें। 

ONGC का शुद्ध लाभ 67 फीसदी लुढ़का, तेल-गैस कीमतों में कमी बनी वजह!

मोर्चा के कानूनी प्रकोष्ठ के सदस्य कुलदीप सिंह ने कहा कि 26 जनवरी को हुई ङ्क्षहसा और किसानों पर दर्ज ‘‘फर्जी मामलों’’ के पीछे की ‘‘साजिश’’ का पता लगाने के लिए उच्चतम न्यायालय या उच्च न्यायालय के किसी सेवानिवृत्त न्यायाधीश से जांच कराई जानी चाहिए। किसान नेताओं के अनुसार ट्रैक्टर परेड में शामिल हुए 16 किसान अब भी लापता हैं। 

कांग्रेस बोली- सीतारमण देश की अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक हैं

इस संबंध में एक अन्य किसान नेता रविंदर सिंह ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने 44 प्राथमिकियों में से 14 के संदर्भ में 122 किसानों को गिरफ्तार किया है।      उन्होंने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा गिरफ्तार किये गये सभी किसानों को कानूनी और वित्तीय मदद मुहैया कराएगा। 

केरल में सियासी दलों ने चुनाव आयोग से एक ही चरण में चुनाव कराने का किया अनुरोध

मोर्चा के नेताओं ने दावा किया कि किसानों के खिलाफ ‘‘झूठे’’ मामले दर्ज किए जा रहे हैं और उनका ‘‘उत्पीडऩ’’ करने के लिए उनपर डकैती तथा हत्या का प्रयास करने जैसे गंभीर आरोप लगाए जा रहे हैं। सिंह ने कहा कि मोर्चा गिरफ्तार किसानों में से प्रत्येक को दो-दो हजार रुपये उपलब्ध कराएगा, ताकि वे जेल की कैंटीन में उससे भोजन खरीद सकें। 

पेट्रोल/डीजल के भाव आसमान पर, विपक्ष ने उठाए मोदी सरकार पर सवाल

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.