Thursday, Oct 28, 2021
-->
tractor rally violence delhi police press conference sohsnt

Tractor Rally Violence: दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने कहा- हमने संयम बरता, किसानों ने विश्वासघात किया

  • Updated on 1/28/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गणतंत्र दिवस (Republic Day) परेड पर ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) की आड़ में राजधानी में हिंसा करने वाले किसी भी उपद्रवी को बख्शा नहीं जाएगा। यही नहीं इन्हें उकसाने और भड़काऊ भाषण देने वाले किसान संगठनों और उन नेताओं के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी, जिनकी संलिप्तता पाई जाएगी। नेताओं की गिरफ्तारी भी की जाएगी। दिल्ली पुलिस आयुक्त ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ये बात कही।

अभय चौटाला ने कृषि कानूनों को लेकर हरियाणा विधानसभा से दिया इस्तीफा

देश की गरिमा को चोट पहुंचाई- पुलिस आयुक्त
उन्होंने कहा कि किसान नेताओं ने विश्वास को तोड़ा है देश की गरिमा को चोट पहुंचाई है, जिसके लिए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। पुलिस आयुक्त ने कहा कि हम जहां सुरक्षा में लगे थे, वहीं किसान संगठन विश्वासघात करते हुए हिंसा की साजिश रच रहे थे, जिसके इनपुट हमें 25 तारीख की रात को मिल गए थे, लेकिन उसके बाद भी हमने संयम बरता और रैली करने की इजाजत दी, लेकिन सबसे पहले सिंघु बॉर्डर से किसान नेता सतनाम सिंह पन्नू और दर्शन पाल सिंह ने तय समय से पहले 9 बजे ही बेरीकेडिंग को तोड़ते हुए रैली को शुरू किया और मुकरबा चौक पर बैठ गए।

उखड़ने लगे टेंट, वापस लौटने लगे किसान, UP सरकार ने काटी यूपी गेट की लाइट

सतनाम सिंह पन्नू ने तीन मिनट तक दिया भड़काऊ भाषण
उन्होंने बताया कि, ये लोग तय रूट की जगह लालकिले की ओर बढ़ने लगे, जब रोका गया गया तो पन्नू ने तीन मिनट तक भड़काऊ भाषण दिया, जिससे लोग गुस्से में आ गए। इस दौरान दर्शन पाल ने भी लोगों को उकसाया। उसी तरह से गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकेट सहित किसान संगठन के तीन नेताओं ने बड़काऊ भाषण दिया, जिससे गुस्से में आ गए। इस दौरान दर्शन पाल ने भी लोगों को उकसाया।

किसान हिंसा पर खुलासा- अकाली दल व सुखबीर बादल के इशारे पर हुआ लाल किले पर तांडव

राकेश टिकैत समेत इन नेताओं ने लोगों को भड़काया
उसी तरह से गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत सहित किसान संगठन के तीन नेताओं ने भड़काऊ भाषण देकर किसानों के रूट की जगह राजपथ पर चलने के लिए कहा, जिसके बाद किसान गाजीपुर से अक्षरधाम की ओर बढ़े और फइर हिंसा शुरू हुई। इसी तरह बूटा सिंह ने किराड़ी के रास्ते नागलोई में अपनी रैली रोक पीरागढ़ी रूट से बदल दी और हिंसा व लूटपाट शुरू कर दी। पुलिस आयुक्त ने कहा कि हमने इस संबंध में अब तक 300 वीडियो एकत्र किए हैं। जिनमें नेताओं और उपद्रवियों की हरकत कैद है, जिसके बाद हमने एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारियां करनी शुरू कर दी हैं।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.