Monday, Aug 15, 2022
-->
trilokpuri section of pink line metro inaugurated prshnt

पिंक लाइन मेट्रो के त्रिलोकपुरी खंड का उद्घाटन, नेटवर्क का सबसे लंबा गलियारा बना

  • Updated on 8/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन के त्रिलोकपुरी स्थित एक छोटे खंड का शुक्रवार को उद्घाटन किया गया, जिससे यह नेटवर्क का सबसे लंबा परिचालन गलियारा बन गया। इसके साथ ही 38 स्टेशनों तक विस्तारित 59 किलोमीटर लंबे मजलिस पार्क-शिव विहार गलियारा या पिंक लाइन पहली बार पूरी तरह से जुड़ गई है।

केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन के मयूर विहार पॉकेट 1 और त्रिलोकपुरी संजय झील स्टेशनों के बीच के खंड का शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये संयुक्त रूप से उद्घाटन किया। पुरी ने उद्घाटन के बाद ट्वीट किया, ‘दिल्ली में भीड़भाड़ कम करने और अत्याधुनिक, हरित मेट्रो रेल नेटवर्क को और मजबूत करने का एक और महत्वपूर्ण प्रयास।’

डीएमआरसी के अधिकारियों ने कहा कि इस खंड के खुलने के साथ, दिल्ली मेट्रो नेटवर्क अब 285 स्टेशनों (नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो कॉरिडोर और रैपिड मेट्रो, गुरुग्राम सहित) के साथ लगभग 390 किलोमीटर तक फैल गया है। इस कॉरिडोर को चौथे चरण में मजलिस पार्क से मौजपुर तक आगे बढ़ाया जाएगा, जिससे यह लगभग 70 किमी की लंबाई वाला भारत का सबसे लंबा सिंगल मेट्रो कॉरिडोर बन जाएगा। पुरी ने अपने संबोधन में कहा कि चौथे चरण के पूरा होने के बाद पिंक लाइन देश में मेट्रो का एकमात्र रिंग कॉरिडोर बन जाएगा।

पिंक लाइन को 2018 से कई चरणों में खोला गया था। हालांकि, पूर्वी दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में एक छोटा सा हिस्सा भूमि अधिग्रहण और अन्य मुद्दों को लेकर पूरा नहीं हो सका, जिसके कारण वहां लाइन के सिरे आपस में जुड़ नहीं पाये थे। अब, काफी देरी के बाद उस खंड के शुरू हो जाने के बाद दिल्ली मेट्रो की पिंक लाइन इसका सबसे लंबा परिचालन गलियारा बन गया है।

अधिकारियों ने कहा कि यह शहर के कई महत्वपूर्ण स्थलों को भी जोड़ेगा, जैसे आनंद विहार रेलवे स्टेशन, आनंद विहार आईएसबीटी, निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन, साउथ एक्सटेंशन के बाजार, आईएनए और लाजपत नगर। पिंक लाइन एक सिरे के दूसरे से जुड़़ जाने से पूर्वी दिल्ली के निवासियों या उस क्षेत्र की यात्रा करने वाले लोगों को भी बहुत फायदा होगा, क्योंकि त्रिलोकपुरी में इस खंड के चालू नहीं होने के कारण कॉरिडोर को दो अलग-अलग खंडों में संचालित किया जा रहा था।

कुश्ती में रजत पदक जीतने पर रवि दहिया को राज्य सभा में दी गई बधाई

कोरोना के कारण हुई देरी

इस लाइन में इस खंड के सितंबर 2020 तक पूरा होने की उम्मीद थी, लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इसमें देरी हुई। नये खंड पर यात्री सेवाएं शुक्रवार अपराह्न 3 बजे से शुरू हो गईं। डीएमआरसी के अधिकारियों ने कहा कि इस निर्बाध सम्पर्क से यात्रियों का समय और पैसा भी बचेगा।

डीएमआरसी प्रमुख मंगू सिंह ने कहा कि बाधाओं और कोविड-19 महामारी के बावजूद, परियोजना एक वर्ष से भी कम समय के रिकॉर्ड समय में पूरी हुई है। पुरी ने कहा कि इस महत्वपूर्ण कनेक्शन के खुलने से 59 किलोमीटर लंबी पिंक लाइन दिल्ली के उत्तरी और पूर्वी किनारों को महत्वपूर्ण बाजारों, अस्पतालों, परिवहन केंद्रों और दक्षिण और मध्य दिल्ली के प्रमुख आवासीय क्षेत्रों से जोड़ेगी।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोगों के लिए यह बहुत खुशी की बात है कि शहर के इस इलाके को मेट्रो से जोड़ा जा रहा है, जहां बड़ी आबादी रहती है। उन्होंने कहा कि भले ही त्रिलोकपुरी-संजय झील से मयूर विहार पॉकेट -1 तक का रास्ता बहुत छोटा है, लेकिन यह बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि कोविड के बाद की अवधि डीएमआरसी के लिए आर्थिक रूप से और साथ ही उन नई परियोजनाओं के दृष्टिकोण से एक कठिन अवधि रही है, जो उसने शुरू की थी। हालांकि, इसने संकट का सामना करने में बहुत लचीलापन दिखाया है।

डीएमआरसी ने एक बयान में कहा कि मयूर विहार पॉकेट -1 और त्रिलोकपुरी-संजय झील स्टेशनों (लगभग 1.5 किमी हिस्से) के बीच ट्रेनें 25 किमी प्रति घंटे की अस्थायी गति प्रतिबंध के साथ चलाई जाएंगी क्योंकि इस खंड में स्वचालित सिग्नलिंग प्रणाली की अभी अनुपलब्धता है।

अधिकारियों ने कहा कि डीएमआरसी त्रिलोकपुरी में वायडक्ट के नीचे एक आंतरिक सड़क भी विकसित कर रहा है, जो वसुंधरा रोड और त्रिलोकपुरी रोड को जोड़ेगी। यह सड़क 140 मीटर लंबी होगी। इससे क्षेत्र में भीड़भाड़ कम करने में मदद मिलेगी और यातायात सुगम होगा।  

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.