Tuesday, Feb 25, 2020
triple talaq bill passed in rajya sabha

राज्यसभा में तीन तलाक विधेयक पास, 99 वोट समर्थन में

  • Updated on 7/30/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा (Lok Sabha) में पास होने के बाद अब तीन तलाक (Teen Talaq) बिल राज्यसभा (Rajya Sabha) में भी पास हो गया है। यह बिल पेश केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पेश किया था। इस बिल के पक्ष में 99 वोट मिले हैं। तो वहीं 84 लोगों ने विरोध किया है। अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जायेगा। बता दें कि इससे पहले इस बिल की वोटिंग पर विपक्ष में भी टकराव नजर आया और कई विपक्षी पार्टियों ने भी वाकआउट कर दिया। 

जिसे सरकार के लिए बड़ी कामयामी माना जा रहा है। गौरतलब हो कि विपक्षी पार्टियों में टीडीपी और बसपा जैसी पार्टियों ने सदन से वाकआउट किया था।  कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को कहा कि तीन तलाक संबंधी विधेयक मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के मकसद से लाया गया है और उसे किसी राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिये।

 

प्रसाद ने राज्यसभा में मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक 2019 को चर्चा एवं पारित करने के लिये पेश करते हुये यह बात कही। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय द्वारा एक फैसले में इस प्रथा पर रोक लगाने के बावजूद तीन तलाक की प्रथा जारी है। इस विधेयक को लोकसभा से पिछले सप्ताह पारित किया जा चुका है।    

Live Updates :

- कांग्रेस के पास अपना पक्ष रखने के लिए 42 मिनट का समय है।

- मुस्लिम महिलाओं को न्याय के लिए बिल लेकर आए- रविशंकर प्रसाद

- यह लैंगिक समानता, नारी अधिकार और गरिमा का मामला है- रविशंकर प्रसाद 

- 20 से अधिक देशों में तीन तलाक बैन- रविशंकर प्रसाद

- तीन तलाक बिल को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने किया राज्यसभा में पेश

जम्मू-कश्मीरः सेना भेजने के बाद प्रशासन ने मांगी राज्य में मस्जिदों की कुल संख्या

प्रसाद ने कहा, ‘इस मुद्दे को राजनीतिक चश्मे या वोट बैंक की राजनीति के नजरिये से नहीं देखा जाना चाहिये। यह मानवता का सवाल है। यह महिलाओं को न्याय दिलाने के मकसद से एवं उनकी गरिमा तथा अधिकारिता सुनिश्चित करने के लिये पेश किया गया है। इससे लैंगिक गरिमा एवं समानता भी सुनिश्चित होगी।’ जद (यू) के सदस्यों ने विधेयक का विरोध करते हुए सदन से बहिर्गमन किया।

बता दें मोदी सरकार राज्यसभा(RajyaSabha) में तीन तलाक बिल पास कराने के लिए एनडीए और गैर एनडीए दलों पर निर्भर रहेगी। जिसके चलते बीजेपी ने अपने सांसदों को तीन लाइनों का व्हिप जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि तीन तलाक बिल पर चर्चा के दौरान दोनों सदनों के सदस्य जरूरी रूप से सदन में मौजूद रहें।

खुलासाः रेप पीड़िता को टक्कर मारने वाला ट्रक सपा नेता के भाई का

मिली जानकारी के मुताबिक राज्यसभा में मंगलवार को यह बिल 12 बजे के करीब पेश होगा। बता दें बीजेपी के पास राज्यसभा में बहुमत नहीं है। हालांकि बीजेपी ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), बीजू जनता दल और वाईएसआर कांग्रेस के समर्थन के बाद पिछले सप्ताह सूचना का अधिकार विधेयक राज्यसभा में पारित कराया था।

उन्नाव कांड की पीड़िता की कार की टक्कर को यूपी पुलिस ने बताया हादसा, विपक्ष नाराज

ऐसे में बीजेपी(BJP) को उम्मीद है कि राज्यसभा में तीन तलाक बिल को पास कराने में भारतीय जनता पार्टी को इन दलों से समर्थन की फिर से उम्मीद है। उधर समाजवादी पार्टी नहीं चाहती कि यह बिल राज्य सभा में पास हो। राज्यसभा में पार्टी के प्रमुख रवि वर्मा ने सभी सांसदों से इस बिल के पास होने के समय सदन में रहने को कहा है।

 

दिल्ली रेलवे स्टेशन पर मिला सेना के अधिकारी का संदिग्ध लाश, पुलिस ने शुरू की जांच

बता दें कि राज्य सभा में इस समय समाजवादी पार्टी के कुल 12 सांसद हैं। राज्य सभा में भाजपा सरकार के पास बहुमत नहीं है इसलिए विरोधी टीमें इस बिल को रोकने का जरूर प्रयास करेंगी। ऐसा माना जा रहा है कि केंद्र सरकार में साथ देने वाली नीतीश कुमार की पार्टी जेडियू भी इस पर भाजपा का साथ नहीं देगी।

पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा के दामाद और कैफे कॉफी डे के मालिक हुए लापता

ध्यान रहे कि राज्य सभा में भाजपा के पास 77 सीटें हैं जबकि सभी विरोधी दल को मिलाकर उनकी कुल संख्या 109 के आस पास है। ऐसी स्थिति में भाजपा के लिए इस बिल को पास कराना आसान काम नहीं होगा। अगर कुछ सांसद वोटिंग के समय नहीं आते या फिर किसी कारण सदन से वाक आउट कर जाते है तो जरूर इसका फायदा सरकार को मिलेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.