Monday, Jan 21, 2019

बर्फ के खेलों के साथ याक की सवारी बना आकर्षण का केंद्र, लोग याक संग ले रहे सेल्फी

  • Updated on 1/8/2019

जोशीमठ/चमोली: विश्व प्रसिद्ध हिम क्रीड़ा स्थली औली में बर्फवारी के बाद जहां बड़ी संख्या में शीतकालीन खेलों का लुत्फ उठाने के लिए पर्यटक पहुंच रहे हैं। वहीं, इन दिनों स्थानीय ग्रामीण द्वारा औली में लाया गया याक भी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

पर्यटक याक की सवारी के साथ ही याक के साथ सेल्फी खिंच कर इसे अपनी यादों में सहेज रहे हैं। बता दें कि फरक्या गांव निवासी बृजभूषण द्वारा याक पालन किया जा रहा है। याक पालन को बढ़ावा देने के लिए बीते वर्ष से पशुपालन विभाग की ओर से गोपेश्वर में प्रतिवर्ष आयोजित होने वाली गंणतंत्र दिवस की परेड में इस याक को भी शामिल किया जाता है।

इस वर्ष पहली बार बृजभूषण अपने याक को लेकर औली पहुंचे हैं। यहां याक को देखने और उसकी सवारी पर्यटकों को खूब भा रही है। बृजभूषण का कहना है कि याक की सवारी करने वाले पर्यटकों से उन्हें अच्छी आय भी प्राप्त हो रही है। कहा कि यदि सरकार की ओर से योजनाबद्ध तरीके से याक पालन को व्यवसाय का स्वरूप दिया जाता है तो यह स्थानीय लोगों की आर्थिकी का बेहतर माध्यम बन सकता है।

गौरतलब है कि ऊंचे हिमालयी क्षेत्रों में घोडे़ और खच्चर सामान ढुलाई के लिये उपयोगी नहीं होते। ऐसे में इन स्थानों पर याक को सामान ढुलाई और सवारी के रूप में उपयोग किया जाता है। दिल्ली से आये पर्यटक समीर और कल्पना का कहना है कि उन्होंने अभी तक याक को चलचित्र और तस्वीरों में देखा था। पहली याक को सामने देखकर आनंद की अनुभूति हो रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.