Thursday, Jan 27, 2022
-->
tripura violence supreme court to hear plea to quash fir against lawyers, journalists rkdsnt

त्रिपुरा हिंसा : वकीलों, पत्रकार के खिलाफ FIR रद्द करने की गुजारिश पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

  • Updated on 11/11/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को दो वकीलों और एक पत्रकार की उस याचिका पर सुनवाई के लिए सहमति जतायी, जिसमें त्रिपुरा में अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ कथित तौर पर हुई हिंसा ङ्क्षहसा के तथ्य सोशल मीडिया के जरिए साझा करने के आरोप में यूएपीए के कठोर प्रावधानों के तहत दर्ज आपराधिक मामले रद्द करने का अनुरोध किया गया है। त्रिपुरा में अल्पसंख्यक समुदाय के पूजा स्थलों के खिलाफ कथित हिंसा को लेकर सोशल मीडिया पोस्ट के आधार पर उच्चतम न्यायालय के वकीलों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं समेत 102 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। 

आजादी को लेकर कंगना की टिप्पणी पर वरूण गांधी बोले - इसे पागलपन कहूं या देशद्रोह

तथ्य खोज समिति का हिस्सा रहे नागरिक समाज के सदस्यों ने भी गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के कुछ प्रावधानों की संवैधानिक वैधता को इस आधार पर चुनौती दी है कि‘‘गैरकानूनी गतिविधियों‘’की परिभाषा अस्पष्ट और व्यापक है। इसके अलावा, कानूनन आरोपी को जमानत मिलना बेहद मुश्किल हो जाता है। हाल ही में बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के खिलाफ हिंसा की खबरों के बाद त्रिपुरा में आगजनी, लूटपाट और ङ्क्षहसा की घटनाएं हुईं। 

कासगंज में पुलिस हिरासत में युवक की मौत को लेकर योगी सरकार पर बरसीं मायावती

प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण और जस्टिस ए एस बोपन्ना और हिमा कोहली की पीठ को अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने सूचित किया कि तथ्य खोज समिति का हिस्सा रहे दो वकील और एक पत्रकार के खिलाफ उनकी सोशल मीडिया पोस्ट के आधार पर त्रिपुरा पुलिस ने यूएपीए के तहत कार्यवाही की है तथा प्राथमिकी दर्ज करके इन्हें दंड प्रक्रिया संहिता के तहत नोटिस जारी किये हैं। 

लखीमपुर कांड में आशीष मिश्रा की बढ़ेंगी मुश्किलें, मृत पत्रकार का भाई पहुंचा कोर्ट

पीठ ने शुरुआत में पूछा, ‘‘उच्च न्यायालय क्यों नहीं गए? आप उच्च न्यायालय के समक्ष गुहार लगाएं।‘‘ हालांकि, बाद में पीठ ने प्रशांत भूषण की इस दलील के बाद याचिका को सूचीबद्ध करने पर विचार करने के लिए सहमति जतायी कि प्राथमिकी रद्द करने के अनुरोध के अलावा इसमें यूएपीए के कुछ प्रावधानों की संवैधानिक वैधता को भी चुनौती दी गई है। 

भगवान राम के बारे में संजय निषाद के विवादित बयान पर भड़की विहिप, BJP चुप

भूषण ने कहा,‘‘कृपया इसे सूचीबद्ध करें क्योंकि इन लोगों पर तात्कालिक कार्रवाई का खतरा है।‘‘ इस पर प्रधान न्यायाधीश ने कहा,‘’मैं एक तारीख (सुनवाई के लिए) दूंगा।‘‘ राज्य में सांप्रदायिक हिंसा के बारे में कथित रूप से सूचना प्रसारित करने के लिए भारतीय दंड संहिता और यूएपीए प्रावधानों के तहत पश्चिम अगरतला पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी में अधिवक्ता मुकेश और अंसारुल हक और पत्रकार श्याम मीरा सिंह पर आरोप लगाये गए हैं। 

महंगाई के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस चलाएगी ‘जनजागरण अभियान’

comments

.
.
.
.
.