Thursday, Aug 16, 2018

उम्र के आखिरी पड़ाव में सिर पर छत के लिए एसएसपी से लगाई गुहार

  • Updated on 8/10/2018

देहरादून 9 अगस्त (खुर्रम शम्सी): जिंदगी के तमाम उतार चढ़ाव को देखने के बाद, 80 साल से ज्यादा की उम्र में आसरा तलाश रहीं दो सगी बहनों का दर्द सुन कर हर किसी का दिल भर आया। दोनों की जुबान पर सिर्फ एक ही लफ्ज़ था, कि हमारे सिर पर छत का इंतजाम कर दो। हम किसी को परेशान नहीं करना चाहते। बाहर ही कहींं सहारा मिल जाए। किसी को परेशान करने की अंदर से आत्मा गवाही नहीं देती। इस दर्द को सुनने के बाद एसएसपी के कहने पर दोनों सगी बहनों को निर्भया सेल भेजा गया, जहां से उनके रहने की व्यवस्था की गई। 

चंद्रावती और प्रभावती दोनों बुजुर्ग बहनें वीरवार को एसएसपी कार्यालय पहुंचीं। एसएसपी निवेदिता कुकरेती से उन्होंने आंखों में आंसू लिए रहने का इंतजाम करने की गुहार लगाई। जब दोनों बहनों से उनके बारे में पूछा गया, तो वे सिर्फ इतना बता पाईं कि मेरठ से आई हैं। वे किराए के मकान में रहती हैं और फिलहाल ताला लगाकर आई हैं। देहरादून में भी उनके रिश्तेदार रहते हैं, लेकिन वे किसी को परेशान नहीं करना चाहतीं। इसलिए, उन्हें रहने के लिए जगह दे दी जाए। 

लाल मंदीप की अंतिम यात्रा में शामिल हुए सैकड़ों लोग, नम आखों से दी विदाई

प्रभावती ने बताया कि उन्हें कम सुनाई देता है। पुलिस दोनों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं जुटा सकी। एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने दोनों बहनों को डालनवाला थाने में बने निर्भया सेल में पुलिस की मदद से भेजा। वहां से दोनों बहनों के रहने का इंतजाम एक एनजीओ में कराया गया है। एसएसपी का कहना है कि दोनों के परिवार वालों से संपर्क करने और सच्चाई जानने की कोशिश की जा रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.