Wednesday, Jan 26, 2022
-->
two-terrorists-surrender-in-pulwama-one-injured-sent-to-hospital-prshnt

J-K: पुलवामा में दो आतंकियों ने किया सरेंडर, एक घायल को भेजा गया अस्पताल

  • Updated on 1/30/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) में लेलहर इलाके में शुक्रवार को आतंकियों (Terrorists) और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हुई जिसमें पुलिस और सुरक्षा बलों की संयुक्त टीम ने ऑपरेशन चलाया और  दो आतंकियों ने आत्मसमर्पण किया। कश्मीर जोन पुलिस ने जानकारी दी है कि  पुलवामा के लीलार इलाके में मुठभेड़ शुरू हुई और पुलिस और सुरक्षा बल ऑपरेशन को अंजाम दिया।  जिसमें दोनों आतंकवादियों ने पुलिस और एसएफ के वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष दो एके 47 राइफलों के साथ आत्मसमर्पण किया। मुठभेड़ में घायल हुए एक आतंकी को मेडिकल के लिए अस्पताल भेज दिया गया है।

सिंघू बॉर्डर पर किसानों और स्थानीय निवासी होने का दावा कर रहे लोगों में झड़प, पुलिस का लाठीचार्ज

हिज्बुल मुजाहिदीन के तीन आतंकी ढ़ेर
बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल इलाके में सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के तीन आतंकवादी मारे गए। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सुरक्षा बलों ने त्राल इलाके के मंडूरा में आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद वहां घेराबंदी की और तलाशी अभियान चलाया था।

पीएम मोदी बजट 2021 से पहले सर्वदलीय बैठक की करेंगे अध्यक्षता

त्राल बस स्टैंड के पास हुए ग्रेनेड हमले में थे शामिल
पुलिस ने कहा कि आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की, जिसके जवाब में सुरक्षा बलों ने भी गोलियां चलाईं और मुठभेड़ शुरू हो गई। उन्होंने कहा कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान वारिस हसन, आरिफ बशीर और एहतेशाम-उल-हक के रूप में हुई है। तीनों प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन से जुड़े थे। तीनों कथित रूप से कई आतंकवादी अपराधों में शामिल थे, जिनमें इस साल दो जनवरी को त्राल बस स्टैंड के पास हुआ ग्रेनेड हमला शामिल है।

राहुल ने मोदी सरकार को चेताया, बोले- गांवों से शहरों तक फैलेगा किसान आंदोलन 

जम्मू-कश्मीर में 270 आतंकवादी सक्रिय
बताया जा रहा है कि जम्मू-कश्मीर की फिजा लगातार बदल रही है। पिछले साल धारा 370 हटाये जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को गहरा धक्का लगा है। इस बाबत जम्मू कश्मीर पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने अपने एक बयान में कहा है कि  फिलहाल जम्मू-कश्मीर में महज 270 आतंकवादी ही सक्रिय है जो पिछले सालों के अपेक्षा बेहद कम है।

उन्होंने कहा कि साल 2020 में आतंकवादी घटनाओं में कमी आई है। तो वहीं घुसपैठ और आमजनों की हत्या की घटनाओं में अभूतपूर्व कमी आई है। जो राहत की बात है। उन्होंने कहा कि पिछले साल ही 100 से अधिक आतंकवाद विरोधी सफल अभियान चलाये गए। जिसमें लगभग 225 आतंकवादी ढ़ेर किये गए। वहीं वर्तमान पर नजर दौड़ाया जाए तो कुल 270  आतंकवादियों में 205 कश्मीर घाटी में सक्रिय है।  

कोर्ट ने केंद्र से पूछा- आखिरी मौका गंवाने वाले UPSC उम्मीदवारों को क्यों ना मिले एक और मौका 

2020 में 300 आतंकी थे सक्रिय
मालूम हो कि जम्मू-कश्मीर में 2019 में 421 और 2020 में 300 आतंकी सक्रिय थे। जिसमें 2018 में 257 और 2019 में 160 आतंकी मारे गए। दिलबाग सिंह ने स्वीकार किया कि किश्तवाड़-डोडा और पुंछ सहित जम्मू क्षेत्र में पीर पंजाल श्रेणी के दक्षिण में आतंकी गतिविधि में लिप्त पाए गए है। जिस पर पैनी नजर है। वहीं उन्होंने कहा कि आतंकी गतिविधियों को तब गहरा धक्का लगा जब आतंकियों के आका की सफाई करने में सफलता मिली। जिससे नए भर्ती पर एकदम से रोक लग गई।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.