Sunday, Aug 14, 2022
-->
tyagi-praised-in-rajysabha-speech

राज्यसभा के विदाई भाषण में त्यागी की वाहवाही, हनुमंत को डांट

  • Updated on 5/14/2016

नई दिल्ली (टीम डिजिटल)। राज्यसभा में शुक्रवार को विदाई भाषण के दौरान जदयू के के.सी. त्यागी ने सभापति मोहम्मद हामिद अंसारी के साथ संपूर्ण सदन से वाहवाही बटोरी जबकि कांग्रेस के हनुमंत राव को अपने व्यवहार के कारण डांट पड़ी। 

समय की कमी के कारण अंसारी सभी सदस्यों से निश्चित समय में अपनी बात कहने का अनुरोध कर रहे थे।  उन्होंने त्यागी से भी यही अनुरोध किया।

इस पर त्यागी ने कहा कि वह आज के दिन हल्की-फुल्की बातें ही कहेंगे। उन्होंने कह कि स्वभाव से मैं बागी हूं। भगवान की बात तो कभी-कभार मान लेता हूं लेकिन हुक्मरानों के आदेश तो मैं मानता नहीं।

मैं आपके दायरे से बाहर हूं, इसलिए लंबे-लंबे भाषण दूंगा।  खूब असंसदीय भाषा का प्रयोग करूंगा और बाहर जाकर धारा 144 तोड़ूंगा।  इस पर सदन में ठहाका फूट पड़ा।

त्यागी ने अपनी बात इस एक शे’र के साथ खत्म की-‘माना कि गुलशन को गुले-गुलजार न कर सके हम, कुछ खार कम कर सके, जहां से गुजरे हम।’

कांग्रेस के हनुमंत राव को भाषण के दौरान सभापति से डांट सुननी पड़ी। वह नियत समय में अपना भाषण समाप्त नहीं कर सके।

अंसारी ने उनसे बार-बार बैठने की अपील की लेकिन वह अनसुना करते रहे। इस पर सभापति ने उनको तेज स्वर में बैठने का निर्देश दिया और उनका भाषण रिकार्ड में नहीं जाने के निर्देश दिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें…एंड्रॉएड ऐप के लिए यहांक्लिक करें.
comments

.
.
.
.
.