Thursday, Aug 18, 2022
-->
uddhav-had-asked-shinde-if-he-wanted-to-become-cm-aditya

उद्धव ने शिंदे से पूछा था कि क्या वह मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं: आदित्य 

  • Updated on 6/26/2022


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। महाराष्ट्र सरकार में शिवसेना से मंत्री आदित्य ठाकरे ने रविवार को दावा किया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पिछले महीने पार्टी नेता एकनाथ शिंदे से पूछा था कि क्या वह मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं, हालांकि शिंदे ने तब बात को टाल दिया था। पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ने यह टिप्पणी शिवसेना कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए की है। शिंदे ने पिछले हफ्ते पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी थी। शिवसेना के का्यादातर विधायक उनके साथ हैं और सब असम के गुवाहाटी में एक होटल में रह रहे हैं। उनके इस कदम से महाराष्ट्र में शिवसेना के नेतृत्व वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। एमवीए में कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी भी शामिल है।  आदित्य ने शिंदे के विद्रोह के हवाले से कहा, च्च् 20 मई को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे को (मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास)‘वर्षा’बुलाया था और पूछा था कि क्या वह मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। हालांकि तब उन्होंने इस मुद्दे को टाल दिया था। लेकिन एक महीने बाद 20 जून को जो होना था वो हो गया।’’ 

राजेंद्र नगर विधानसभा उपचुनाव में AAP के दुर्गेश ने मारी बाजी, BJP को दिया MCD चुनाव का चैलेंज

बागी मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे ठाकरे : पवार 
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने रविवार को यहां कहा कि उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली महा विकास आघाडी (एमवीए) सरकार ने गुवाहाटी में शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे के खेमे में शामिल होने वाले मंत्रियों को बर्खास्त करने की तैयार कर ली है। पवार ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि एमवीए सहयोगियों ने ठाकरे को बागियों के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार दिया है और एक या दो दिन में कदम उठाए जाएंगे।     पवार ने बागी नेता शिंदे के साथ शामिल होने वाले राज्य सरकार के मंत्रियों को बर्खास्त करने के सवालों पर कहा, ‘‘यह मुख्यमंत्री के दायरे में आता है। वह एक या दो दिन में कार्रवाई करेंगे।’’ राकांपा प्रमुख ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की संभावना को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा, ‘‘जिन लोगों ने बगावत की है, वे महाराष्ट्र में वैकल्पिक सरकार चाहते हैं। अगर आपको राष्ट्रपति शासन ही लगाना है तो इतने विधायकों को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने का क्या मतलब है। मेरी समझ के मुताबिक राष्ट्रपति शासन की संभावना नहीं है। अगर ऐसा होता है तो चुनाव कराए जाएंगे।’’ 

उपचुनाव : भाजपा को 5 सीट मिली, यूपी की रामपुर, आजमगढ़ सीटों से भी दर्ज की विजय

राज्यपाल कोश्यारी ने सुरक्षा के लिए केंद्र को लिखा पत्र 
महाराष्ट्र में शिवसेना के कार्यकर्ताओं द्वारा बागी विधायकों के कार्यालयों में तोडफ़ोड़ के मद्देनजर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला को पत्र लिखकर राज्य में केंद्रीय सुरक्षा बलों की पर्याप्त व्यवस्था करने का आग्रह किया है। कोश्यारी ने 25 जून को लिखे अपने पत्र में कहा है कि उन्हें शिवसेना के 38 विधायकों, प्रहार जनशक्ति पार्टी के दो सदस्यों और सात निर्दलीय विधायकों से एक आवेदन मिला है जिसमें कहा गया है कि उनके परिवारों की पुलिस सुरक्षा ‘‘अवैध और गैर कानूनी तरीके से वापस ले ली गई है।’’ शिवसेना के कई विधायक पार्टी के वरिष्ठ मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं, जो महा विकास आघाड़ी (एमवीए) से शिवसेना के बाहर निकलने की मांग समेत अन्य मुद्दे उठा रहे हैं। कोश्यारी ने पत्र में लिखा है, ‘‘उन्होंने कुछ राजनीतिक नेताओं द्वारा भड़काऊ और धमकी भरे बयानों के संदर्भ में अपने आवासों और परिवारों की सुरक्षा को लेकर भी गंभीर चिंता जताई है।’’ 

कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल की समाधान प्रक्रिया की समयसीमा बढ़ाई गई

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.