Thursday, Feb 27, 2020
udit raj blame modi government for pulwama attack

कांग्रेस नेता का विवादित बयान, कहा- 2024 चुनाव से पहले फिर होगा पुलवामा जैसा अटैक

  • Updated on 2/15/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस नेता उदित राज (Udit Raj) ने पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर केंद्र सरकार को कटघरे में लेते हुए विवादित बयान दिया है, उन्होंने कहा कि सरकार ने अलर्ट मिलने के बाद भी कोई ठोस कदम क्यों नहीं उठाया? इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर राष्ट्रवाद का प्रचार करने वाले लोग अक्सर उच्च जाति के होते हैं और जिन सैनिकों ने मुख्य रूप से हमले में अपनी जान गंवाई वे SC/ST/OBC समुदायों से आते हैं। हाशिए पर खड़े समुदायों को सत्ताधारी सवर्णों की देशभक्ति की कीमत चुकानी पड़ती है।

उपमुख्यमंत्री सिसोदिया के OSD को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

साथ ही पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं। इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।

पुलवामा से किसे सबसे ज्यादा फायदा हुआ?
कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने शहीद जवानों के पार्थिव शरीर वाले ताबूतों की तस्वीर शेयर करते हुए ट्वीट किया, 'आज जब हम पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 जवानों को याद कर रहे हैं तो हमें यह पूछना है कि इस हमले से सबसे ज्यादा फायदा किसको हुआ?' उन्होंने यह सवाल भी किया, 'हमले की जांच में क्या निकला? हमले से जुड़ी सुरक्षा खामी के लिए भाजपा सरकार में अब तक किसको जवाबदेह ठहराया गया है?' 

CM केजरीवाल के शपथ ग्रहण में स्कूल प्रमुखों को भेजा गया न्योता

शहीदों की शहादत को देश कभी नहीं भूलेगा- मोदी
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पुलवामा में सुरक्षा बलों पर हुए जघन्य आतंकी हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शुक्रवार को कहा कि देश इन शहीदों की शहादत को कभी नहीं भूलेगा। प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा, 'पिछले वर्ष पुलवामा में सुरक्षा बलों पर हुए जघन्य आतंकी हमले में जान गंवाने वाले वीर शहीदों को श्रद्धांजलि। वे असाधारण लोग थे जिन्होंने हमारे देश की सुरक्षा और सेवा करने में अपना जीवन समर्पित कर दिया।' उन्होंने कहा, 'भारत उनकी शहादत को कभी नहीं भूलेगा।'

गौरतलब है कि 14 फरवरी 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में बड़ा आतंकी हमला हुआ था जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। यह हमला जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाकर किया गया था।

पुलवामा हमले की बरसी पर कांग्रेस ने मोदी सरकार से पूछा, कहां है जांच रिपोर्ट?

इस्लामी आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद ने कराया था हमला
बता दें कि साल 2019 में 14 फरवरी के दिन जम्मू- कश्मीर के पुलवामा जिले के लीथोपोरा में सीआरपीएफ के जवानों पर आत्मघाती हमला हुआ था। इस हमले में हमारे 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित इस्लामी आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) ने ली थी। इस हमले को अंजाम देने वाला पुलवामा का लोकल लड़का था। 

क्या देश में कोई कानून नहीं बचा, सुप्रीम कोर्ट बंद कर दें?

आदिल अहमद डार ने किया था आत्मघाती हमला
पुलवामा को अंजाम देने वाले आतंकवादी का नाम आदिल अहमद डार था। इसकी उम्र महज 20 साल थी। ये इस्लामी आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद से जुड़ा हुआ था। सीआरपीएफ के काफिले की बस से विस्फोटक से भरी एक गाड़ी को इसी आतंकवादी ने टक्कर मारी थी। ये हमला तीन दशकों में हुआ सबसे बड़ा आत्मघाती हमला था। इस हमले की खबर से पूरा देश दहल गया था।  

comments

.
.
.
.
.