Friday, Sep 30, 2022
-->
under-water-tunnel-of-14-km-in-brahmaputra-river-china-prsgnt

ब्रह्मपुत्र नदी के नीचे बनेगी 14.85 किलोमीटर लंबी सुरंग, चीनी सीमा तक पहुंचने में मिलेगी मदद

  • Updated on 7/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन की सीमा तक जाने वाली 14.85 किलोमीटर की सुरंग जल्द ही ब्रह्मपुत्र नदी के नीचे बनने जा रही है। इस सुरंग को केंद्र सरकार की मंजूरी मिल गई है। ये अंडर वाटर रोड टनल पूर्वोत्तर राज्यों असम और अरुणाचल को सीधे जोड़ेगी।

इतना ही नहीं, चीन सीमा तक लगे अरुणाचल प्रदेश को सीधे असम से जोड़ने वाली इस सुरंग का रणनीतिक महत्व भी काफी ज्यादा है। भारत और चीन के बीच बढ़े तनाव के बाद शायद से सुरंग कुछ योजनाओं में काम आ सके।

जिन्ना का ऑफर ठुकराने वाला ये जाबांज मुस्लिम फौजी भारत के लिए हो गया था शहीद

ये है खास
अंडर वाटर बनने वाली इस सुरंग में 80 किलोमीटर प्रति घंटा तक की रफ्तार से वाहन चल सकेंगे। इतना ही नहीं ये सुरंग नेशनल हाईवे 54 पर स्थित गोहपुर को असम के नुमालीगढ़ से जोड़ेगी,  जो राष्ट्रीय राजमार्ग 37 पर स्थित है। बताया जा रहा है कि इस साल के अंत तक इस सुरंग पर काम शुरू हो सकता है। इस सुंरग को तीन चरणों में तैयार किया जाएगा।

ढोला सदिया पुल
बता दें, इससे पहले पीएम मोदी ने मई 2007में ब्रह्मपुत्र नदी पर ही बने ढोला सदिया पुल का उद्घाटन किया था। ये 9 किलोमीटर लंबा पुल भी असम और अरुणाचल प्रदेश को आपस में जोड़ता है। ये पुल दोनों राज्यों की राजधानी दिसपुर से 540 किलोमीटर और ईटानगर से 300 किलोमीटर दूर है। इस पुल के होने से दोनों राज्यों के बीच की दूरी 165 किलोमीटर तक घट गई है।

दुनिया में होंगे आबादी, सत्ता, वर्चस्व, अर्थव्यवस्था से जुड़े कई बड़े बदलाव, ऐसे हुआ खुलासा

अरुणाचल प्रदेश से कनेक्टिविटी
वहीँ, इस पुल के बाद बनने वाली ये सुरंग असम के साथ अरुणाचल प्रदेश से जुड़ने की कवायत को और मजबूत करेगी। इस सुरंग से हो कर 4 लेन की मदद से बड़े मिलिट्री वाहन भी गुजर सकेंगे। इस सुरंग के दो हिस्से होंगे और दोनों मे दो-दो लेन होंगी। दो लेनों से आने और जाने का रास्ता अलग होने के चलते ट्रैफिक तेजी से गुजर सकेगा।

चीन की लेक से लंबी सुरंग
इस टनर से अरुणाचल प्रदेश स्थित चीन से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा तक मिलिट्री वाहन आसानी से पहुंच जाया करेंगे। रणनीतिक और सामरिक लिहाज से यह सुरंग बेहद महत्वपूर्ण और अहम साबित हो सकती है। बता दें, ये सुरंग चीन के जियांग्सू प्रांत की ताइहू लेक में बनी अंडर वॉटर सुरंग से भी लंबी होगी।

चीन में बनी ताइहू लेक सुरंग 10.79 किलोमीटर लंबी बताई जाती है। जबकि बनने वाली नई सुरंग 14.85 किमी होगी। इस सुरंग को बनाने के लिए अमेरिकी कंपनी लुइस बर्जर तैयार कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.