Thursday, Apr 15, 2021
-->
union-government-has-decided-permanently-ban-59-chinese-apps-prsgnt

59 चीनी एप्स पर अब परमानेंट बैन लगाएगी सरकार, केंद्र कंपनियों के जवाब से असंतुष्ट

  • Updated on 1/26/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन के साथ बढ़ते तनाव को देखते हुए केंद्र सरकार (Union Government) ने कड़ा फैसला लेते हुए टिकटॉक (TikTok) समेत 59 चीनी मोबाइल एप्स को परमानेंट बैन करने जा रही है। सरकार ने जून में हुए भारत-चीन सेना के बीच झड़प के बाद कुछ प्रमुख चीनी एप्स (Chinese apps) पर अस्थाई रूप से बैन लगाया था। 

बैन लगाने के बाद सरकार ने चीनी कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा था। कंपनियों ने जवाब भी दिया हालांकि उनके जवाब से सरकार संतुष्ट नहीं हुई। 

शिंजो आबे, पासवान समेत 119 हस्तियों को मिला पद्म पुरस्कार, गृह मंत्री ने दी बधाई

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Electronics and Information Technology) ने बैन किए गए एप्स का संचालन कर रही कंपनियों को नोटिस भेजा गया है।

बता दें, साइबर सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए चीन के 59 ऐप्स बैन करने के बाद भारत सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया था। सरकार ने 47 क्लोन ऐप्स पर भी बैन लगा दिया था। यह क्लोन ऐप्स पहले बैन किए गए ऐप्स से मिलते जुलते ही ऐप थे। सरकार को जानकारी मिली थी कि यह ऐप्स डेटा को लेकर गड़बड़िया कर रहे हैं। 

59 चीनी ऐप्स के बाद अब भारत सरकार PUBG समेत इन 275 ऐप्स को भी करेगी बैन

दरअसल, सरकार को विश्वस्त सूचना मिली थी कि चीनी एप्स देश की संप्रभुता और अखंडता के लिए नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियों में शामिल हैं।

सरकार द्वारा लिए गए इस एक्शन पर चीन काफी भड़क गया था और उसने भारत को जवाब देते हुए कहा था कि ऐसा करना वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाइजेशन (WTO) के नियमों का उल्लंघन करना है। लेकिन भारत सरकार ने अपनी देश की सुरक्षा को देखते हुए 59 एप्स के बाद दूसरी मुख्य एप्स जिसमें पबजी भी शामिल थी। 

राजस्थान: पेट्रोल की कीमत से जनता बेहाल, 100 रुपए के पार पहुंचे दाम

बता दें कि इन्फॉर्मेशन टेक्नॉलजी ऐक्ट के सेक्शन 69A के तहत चीन के ऐप्स पर बैन लगाया गया है। केंद्र सरकार की ओर से जारी ऑफिशल स्टेटमेंट में कहा गया है कि सरकार को ऐसे इनपुट्स मिले थे कि ये ऐप्स भारत की एकता और अखंडता, भारत की सुरक्षा, स्टेट सिक्यॉरिटी और पब्लिक ऑर्डर को नुकसान पहुंचाने वाली ऐक्टिविटीज में शामिल थे।

पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.