Tuesday, Oct 19, 2021
-->
Union Min Ram Vilas Paswan Delhi Water Quality Arvind Kejriwal BIS

पानी पर न हो राजनीति, केंद्र और दिल्ली के अधिकारियों से मिलकर कराएंगे जांच: रामविलास पासवान

  • Updated on 11/18/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi) में गंदे पानी पर आई भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) की रिपोर्ट को गलत बताने पर केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) का कहना है कि इस पर राजीनीति नहीं होनी चाहिए। मैं पानी की जांच के लिए केंद्र से 2-3 अधिकारी नियुक्त करता हूं और दिल्ली सरकार भी 2-3 अधिकारी नियुक्त करे, जो पानी की जांच करेंगे। उस जांच की रिपोर्ट को हम पब्लिक के सामने रखेंगे। 

भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा 20 राज्यों के पानी की गुणवत्ता जांच में दिल्ली का पानी सबसे खराब बताया गया था। इस रिपोर्ट को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गलत बताया था। सीएम केजरीवाल का कहना था कि किसी भी राज्य का पानी महज 11 स्थानों के पानी की जांच से गंदा नहीं ठहराया जा सकता। राम विलास पासवान ये भी नहीं बता रहे हैं कि उन्होंने पानी के सैंपल किन स्थानों से लिए हैं। मैं 5 वार्ड से पानी के सैंपल लूंगा और उनकी जांच कराउंगा। इसके बाद उसकी जांच रिपोर्ट जनता के सामने रखूंगा।

फ्री पानी के नाम पर दिल्ली की जनता को जहर पिला रहे हैं केजरीवाल, दें इस्तीफा: हर्षवर्धन

हर्षवर्धन ने भी साधा था सीएम केजरीवाल पर निशाना
भारतीय मानक ब्यूरो की रिपोर्ट सामने आने के बाद केंद्रीय मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने भी सीएम केजरीवाल पर निशाना साधा था। डॉक्टर हर्षवर्धन ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा है कि फ्री पानी के नाम पर दिल्ली की जनता को जहर पिला रहे हैं अरविंद केजरीवाल। देश के 20 शहरों के पानी पर हुए सर्वे में दिल्ली का पानी सबसे ज्यादा जहरीला पाया गया। विकास के बड़े-बड़े दावे करने वाली AAP सरकार लोगों को साफ पानी तक मुहैया कराने में नाकाम रही है। 

सीएम केजरीवाल का दिल्ली वालों को एक और तोहफा- अब सीवर कनेक्शन किया फ्री

सीएम केजरीवाल ने BIS की रिपोर्ट को बताया गलत
इस पर अरविंद केजरीवाल ने जवाब देते हुए ट्वीट कर लिखा कि सर, आप तो डॉक्टर हैं। आप जानते हैं कि ये रिपोर्ट झूठी है, राजनीति से प्रेरित है। आप जैसे व्यक्ति को ऐसी गंदी राजनीति का हिस्सा नहीं बनना चाहिए। इसके बात यहीं खत्म नहीं हुई हर्षवर्धन ने फिर ट्वीट कर केजरीवाल पर सवाल दागा।

comments

.
.
.
.
.