Saturday, Nov 17, 2018

सिख दंगा पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए SAD की रैली, केंद्रीय मंत्री गिरफ्तार

  • Updated on 11/3/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 1984 में हुए सिख दंगों को 34 साल हो चुके हैं लेकिन आज भी पीड़ित परिवारों को न्याय के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। इसी के कारण शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने शिनवार को दिल्ली में रैली निकालकर दंगा पीड़ितों को न्याय दिलाने की मांग की। 

प्रदर्शकारियों ने शनिवार को कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास के बाहर जमकर हंगामा किया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर का पुतला जलाया।

हंगामा कर रहे प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन प्रदर्शनकारी पीछे हटने को तैयार नहीं हुए। जब सुरक्षाकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश की तो दोनों पक्षों में झड़प हो गई, जिसके चलते पुलिस ने प्रदर्शन में शामिल केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल और उनके साथियों को हिरासत में ले लिया। 

इस मौके पर हरसिमरत कौर ने कहा कि हमारा समुदाय पिछले 34 सालों से न्याय का इंतजार कर रहा है। हजारों सिखों को मौत के घाट उतार दिया गया, कई महिलाओं का बलात्कार किया और कई  लोग बेघर हो गए। यह घटना देश के इतिहास का काला अध्याय है। किसी को न्याय नहीं मिला। आखिर क्यों न्यायपालिका स्वत: संज्ञान नहीं ले रही। 

जानकारी के अनुसार शिरोमणि अकाली दल के नेता शनिवार को दिल्ली के अकबर रोड़ पर प्रदर्शन कर रहे हैं। शिरोमणि अकाली दल के नेताओं के साथ 1984 सिख दंगों के पीड़ित परिवार के लोग भी शामिल थे।

तेजप्रताप के लिए आसान नहीं होगा तलाक लेना, एक साल करना होगा इंतजार !

1984 सिख दंगों के पीड़ितों का आरोप है कि 34 साल बीत जाने के बाद भी अभी तक उन्हें इंसाफ नहीं मिल सका है। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने सज्जन कुमार और जगदीश टाइटलर का पुतला जलाया।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.