Saturday, Jul 24, 2021
-->
united-kisan-morcha-suspended-chadhuni-for-a-week-on-elections-issue-rkdsnt

संयुक्त किसान मोर्चा ने चढूनी को एक सप्ताह के लिए किया निलंबित

  • Updated on 7/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने बुधवार को हरियाणा भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी को यह सुझाव देने के लिए सात दिनों के लिए निलंबित कर दिया कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन में शामिल पंजाब के किसान संगठनों को अगले साल राज्य विधानसभा चुनाव लडऩा चाहिए। 

दिल्ली हाई कोर्ट ने CBSE को छात्रों की परीक्षा फीस लौटाने पर विचार करने का दिया निर्देश 

सिंघू बॉर्डर आंदोलन स्थल के पास संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, मोर्चा के वरिष्ठ नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि चढूनी कई बार ऐसा नहीं करने के लिए कहे जाने के बावजूद अपने ‘‘मिशन पंजाब’’ के बारे में बयान दे रहे हैं। राजेवाल ने कहा, ‘‘फिलहाल हम (केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ) लड़ रहे हैं। हम कोई राजनीति नहीं कर रहे हैं।’’ 

मानसून सत्र से पहले पीयूष गोयल राज्यसभा में बनाए गए सदन के नेता 

भाकियू (राजेवाल) के अध्यक्ष राजेवाल ने कहा,‘‘इसके लिए आज हमने उन्हें सात दिन के लिए निलंबित करने का फैसला किया। वह कोई बयान जारी नहीं कर पाएंगे या मंच साझा नहीं कर पाएंगे। उन पर ये प्रतिबंध लगाए गए हैं।’’ एक सवाल के जवाब में राजेवाल ने कहा कि चढूनी पंजाब किसान संघों के नेताओं को राजनीतिक रास्ता अपनाने के लिए कह रहे हैं। 

बढ़ती महंगाई के बीच मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों का बढ़ाया DA

उन्होंने कहा, ‘‘हम उनसे कह रहे थे कि हमारा ऐसा कोई कार्यक्रम नहीं है। बाद में पंजाब के नेताओं ने उनके बयानों के संबंध में शिकायत की और मंगलवार को बैठक की। आज मोर्चा ने उन्हें सात दिनों के लिए निलंबित कर दिया।’’ गौरतलब है कि चढूनी ने एक सप्ताह पहले कहा था कि केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन में शामिल पंजाब के संगठनों को पंजाब विधानसभा चुनाव लडऩा चाहिए।  

संसद सत्र को लेकर आंदोलित किसानों ने विपक्षी दलों पर बनाया दबाब

 

 


 

comments

.
.
.
.
.