unrest-in-the-bureaucracy-by-the-attack-of-forest-minister-harak-singh

वन मंत्री हरक सिंह के हमले से नौकरशाही में बेचैनी

  • Updated on 5/18/2019

देहरादून/ ब्यूरो। अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने हरक सिंह के हमले का सीधे तौर पर जवाब दिये बगैर मुख्यमंत्री से मुलाकात की और अपना पक्ष रखा। कंडी मार्ग को लेकर सीएम ने आवश्यक कदम उठाने को कहा है।

 मु्ख्यमंत्री के सचिवालय स्थित कार्यालय में शुक्रवार को यह मुलाकात हुई। सूत्रों का कहना है कि इस मुलाकात के दौरान ओम प्रकाश ने कंडी मार्ग से संबंधित एनजीटी के आदेश और इस संबंध में वन्य जीव प्रतिरक्षा विभाग तथा नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी की एनओसी नहीं होने की जिक्र किया।

ओम प्रकाश ने बताया कि कंडी मार्ग का निर्माण तो प्रारंभ करा दिया गया परंतु संबंधित महकमों की एनओसी नहीं होने से कभी भी दिक्कत पैदा हो सकती थी। उन्होंने कहा कि इन्हीं दिक्कतों के आधार पर लैंसडाउन रेंज के डीएफओ ने काम रुकवाया था।

इसमें लोकनिर्माण विभाग की कोई गलती नहीं है। सूत्रों का कहना है कि लगभग आधे घंटी की मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ने इस मार्ग पर दोबारा काम शुरू कराने की संभावनाओं को तलाशने को कहा है। उधर, मीडिया ने जब ओम प्रकाश से इस संबंध में पूछा तो उन्होंने डीएफओ द्वारा उठाये गये सवाल और इस संबंध में एनजीटी के आदेशों का हवाला दिया और इससे अधिक कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उधर, नौकरशाही में दिन भर हरक सिंह के बयानों की चर्चा रही। चर्चा यह है कि वन मंत्री ने नौकरशाही को अनावश्यक मोहरा बनाया है। यह सियासी मुद्दा है और वन मंत्री के निशाने पर मुख्यमंत्री और उनकी टीम है।

तो कभी नहीं बनेगा कंडी मार्ग

देहरादून: वरिष्ठ नौकरशाहों का मानना है कि यदि सभी नियमों का पालन किया जाए तो कंडी मार्ग का निर्माण असंभव है। लगभग 90 किमी लंबे कंडी मार्ग का 50 किमी हिस्सा कार्बेट टाइगर रिजर्व से होकर जाता है।

टाइगर रिजर्व में पक्का मार्ग बनाने के लिए वन एव पर्यावरण विभाग, वन्य जव प्रतिरक्षा विभाग, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण आदि विभागों की एनओसी चाहिए। वन एवं पर्यावरण विभाग को छोड़कर बाकी विभागों की एनओसी मिलना काफी मुश्किल है। इस कारण बगैर एनओसी मार्ग पर काम शुरू कराया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.