Friday, Feb 28, 2020
UPSC Exam Jammu and Kashmir applicants will not get maximum age relaxation

#UPSC परीक्षा : जम्मू-कश्मीर के आवेदकों को नहीं मिलेगी अधिकतम आयु में छूट

  • Updated on 2/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की सिविल सेवा परीक्षा 2020 में जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के छात्रों को अधिकतम आयु में छूट नहीं मिलेगी। पिछले साल तक 1980 से 1989 के बीच जम्मू-कश्मीर का मूल निवास प्रमाण पत्र रखने वालों को अधिकतम आयु में पांच साल की छूट मिलती थी। हालांकि, अन्य श्रेणियों में पूर्व की तरह आयु में छूट जारी रहेगी।  

ममता बोलीं- #CAA, #NRC जानकारी जमा करने के लिए हो रहा है बैंकों, डाकघरों का इस्तेमाल

यूपीएससी द्वारा बुधवार को जारी अधिसूचना में यह जानकारी दी गई है। आयोग ने देश की नौकरशाही में 796 पदों को सिविल सेवा परीक्षा-2020 के जरिये भरने की घोषणा की है। अधिसूचना के मुताबिक सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा 31 मई को होगी। 

इलेक्ट्रॉनिक Toll Tax संग्रह के लिए #Fastag हुआ #Free, ऐसे करें अप्लाई

उल्लेखनीय है कि पिछले साल सिविल सेवा परीक्षा के लिए सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए अधिकतम 32 साल आयु निर्धारित की गई थी लेकिन एक जनवरी 1980 से 31 दिसंबर 1989 तक जम्मू-कश्मीर के अधिवासी को अधिकतम आयु में पांच साल की छूट दी गई थी। इस साल जारी सिविल परीक्षा की अधिसूचना में इस तरह की छूट का उल्लेख नहीं है। 

दिल्ली चुनाव परिणाम को लेकर सट्टा बाजार की जीत, सटोरियों की हार

हालांकि, अधिकतम आयु में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के लिए पूर्व की तरह पांच साल की और अन्य पिछड़े वर्ग के लिए तीन साल की छूट जारी रहेगी। 

मनोज तिवारी ने #BJP की हार के बाद अपने इस्तीफे की अटकलों पर दी सफाई


अधिसूचना के मुताबिक सिविल सेवा परीक्षा-2020 के जरिये भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस), भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस), भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस), भारतीय रेलवे यातायात सेवा (आईआरटीएस), भारतीय रेलवे लेखा सेवा (आईआरएएस), भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा (आईआरपीएस) के अधिकारियों की भर्ती होगी। 

प्रशांत किशोर बोले- भारत की आत्मा को बचाने के लिए ‘शुक्रिया दिल्ली’

अधिकारियों ने बताया कि संभवत: आखिरी बार आईआरटीएस, आईआरएएस और आईआरपीएस अधिकारियों की भर्ती सिविल सेवा परीक्षा के लिए हो रही है क्योंकि मौजूदा भारतीय रेलवे की आठ सेवाओं को मिलाकर भारतीय रेलवे प्रबंधन सेवा (आईआरएमएस) बनाने का फैसला किया गया है और यूपीएसएसी अगले साल इस सेवा के लिए भर्ती शुरू कर सकता है। 
 

comments

.
.
.
.
.