Wednesday, Dec 08, 2021
-->
us cruiser nimitz came to andaman and nicobar sea for warfare with indian navy sobhnt

चीन के खिलाफ अमेरिका ने संभाला मोर्चा, भेजा अंडमान-निकोबार अपना सबसे विशाल युद्धपोत

  • Updated on 7/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन की दुनियाभर में विस्तारवादी नीति का जबाव देने के लिए अमेरिका ने अब मोर्चा संभाल लिया है। अमेरिका ने विशाल युद्धपोत यूएसएस निमित्‍ज को अंडमान सागर में भेजा है। यह युद्ध पोत अनुमान लगाया जा रहा है कि भारत के साथ लद्दाख में चल रहे सीमा गतिरोध के दौरान चीन को संकेत देने के लिए भेजा गया है। इसके अलावा अनुमान है कि यह अमेरिका विहानवाहक पोत भारत के साथ युद्धाभ्यास कर सकता है। 

दुनिया के सबसे कम मृत्यु दर वाले देशों में भारत हुआ शामिल, मृत्यु दर हुई 2.49 प्रतिशत

चीन बौखला गया है
बताया जा रहा है यह विमान मलक्‍का स्‍ट्रेट के रास्ते अंडमान-निकोबार सागर में घूसा है। मलक्का स्ट्रेट वह रास्ता है। जिसके माध्यम से चीन और जापान जैसे देशों को तेल की सप्लाई होती है। अगर चीन किसी तरह की कोई हरकत करता है तो अमेरिका इस रूट पर कब्जा करके उसकी तेल सप्लाई बंद कर सकता है। अमेरिका के इस युद्धपोत को देखकर चीन बौखला गया है और वह लगातार अमेरिका को युद्ध की धमकी दे रहा है।  

महाराष्ट्र में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर इतनी रही तीव्रता

अमेरिका के सबसे ताकतवर युद्धपोत में से एक 
दरअसल चीन यूएसएस निमित्‍ज की ताकत से वाकिफ है। यूएसएस निमित्‍ज अमेरिका के सबसे ताकतवर युद्धपोत में से एक है। 332 मीटर लंबे युद्ध पोत पर अमेरिका एक साथ  90 से ज्यादा फाइटर विमान और F-18 समेत 3000 सैनिक ले जा सकता है। इसकी रफ्तार 58 कि.मी. प्रति घंटा है।  

अभिभावक कब खुलवाना चाहते हैं स्कूल? उनकी राय से ही केंद्र सरकार करेगी फैसला

जापान के साथ भी किया था युद्धभ्यास
अमेरिकी नौसेना का यह युद्धपोत अनुमान लगाया जा रहा है कि भारत के साथ नौसेना के साथ मिलकर युद्धभ्यास कर सकता है। इसी  लिए यह अंडमान निकोबार द्वीप समूह की ओर आया है। यह युद्ध अभ्यास वैसा ही होगा जैसा भारतीय नेवी ने जापान के साथ किया था। 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.