Tuesday, Jan 18, 2022
-->
us-should-remove-ban-on-raw-material-of-corona-vaccine-said-adar-poonawalla-kmbsnt

कोरोना वैक्सीन के कच्चे माल पर लगे प्रतिबंध हटाए अमेरिका- अदार पूनावाला

  • Updated on 4/17/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाने के लिए अमेरिका को कच्चे माल के निर्यात पर लगा प्रतिबंध हटाने की आवश्यकता है। सीरम इंस्टीट्यूट इस समय एस्ट्रेजनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित कोरोना वायरस रोधी टीका कोविशील्ड बना रहा है।

इसका इस्तेमाल केवल भारत में नहीं किया जा रहा, बल्कि इसे कई देशों में भी निर्यात किया जा रहा है। पूनावाला ने इससे पहले स्वीकार किया था कि एसआईआई नौकरशाही और सरकारी बाधाओं के कारण टीको की आवश्यक संख्या के बैच भेजने में समस्याओं का सामना कर रहा है।

किसानों को दिल्ली की सीमाओं से हटाने के लिए गृह मंत्रालय की रणनीति तैयार

पूनावाला ने अमेरिका के राष्ट्रपति से की ये अपील 
उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बिडेन के ट्विटर हैंडल को टैग करते हुए ट्वीट किया कि अमेरिका के माननीय राष्ट्रपति मैं अमेरिका के बाहर के टीका उद्योग की ओर से आपसे विनम्र अनुरोध करता हूं कि अगर वायरस को हराने के लिए हमें सचमुच एकजुट होना है तो अमेरिका के बाहर कच्चे माल के निर्यात पर लगे प्रतिबंध को हटाया जाए। ताकि टीकों का उत्पादन बढ़ सके।

हरियाणा ने यमुना में अमोनिया कम करने को नहीं उठाये कदम: दिल्ली सरकार ने कोर्ट को बताया

भारत समेत कई देशों में वैक्सीन की कमी
उन्होंने कहा कि आपके प्रशासन के पास विस्तृत जानकारी है। भारत में इन दिनों कोरोना संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है। रोजाना यहां हजारों की संख्या में लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं और सैकड़ों लोग रोज मर रहे हैं। भारत समेत कई देशों में कोरोना वैक्सीन की कमी देखने को मिल रही है। इसको लेकर सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने ट्वीट कर अमेरिका के राष्ट्रपति से वैक्सीन बनाने के लिए उपयोग होने वाले कच्चे माल पर से प्रतिबंध हटाने की अपील की। 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.