Sunday, Apr 11, 2021
-->
us takes big action on tiktok ban of use of app in government equipment prshnt

अमेरिका ने TikTok पर की बड़ी कार्रवाई, सरकारी उपकरणों में एप के इस्तेमाल पर लगा बैन

  • Updated on 8/7/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमेरिका में टिकटॉक पर बैन की शुरूआत हो गई है। अमेरिकी सीनेट में सर्व सहमति से कर्मचारियों को सरकार की ओर से दिए गए सभी उपकरणों पर टिकटॉक एप का प्रयोग उपयोग करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। गुरुवार को सीनेट में मतदान में विधेयक को मंजूरी मिलने के बाद टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया गया है । व्हाइट हाउस ने टिकटॉक ऐप को सुरक्षा कारणों से एक बड़ा खतरा बताया है।

J-K के पूर्व LG जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक, कल लेंगे शपथ

राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं के कारण लिया गया फैसला
अमेरिका में सरकारी कर्मचारियों को दिए गए उपकरणों में टिकटॉक का इस्तेमाल प्रतिबंधित करने के लिए सीनेट जोश हॉले ने विधेयक पेश किया था। जिसे सर्वसम्मति से मतदान किया गया। बताया गया कि ऐसा राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चिंताएं के मद्देनजर किया गया है। इस ऐप को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति समेत उनका प्रशासन और तमाम जनप्रतिनिधि अपनी नाराजगी पहले ही व्यक्त कर चुके हैं।

रेलवे आज से चलाएगा पहली किसान पार्सल ट्रेन, बजट में की गई थी घोषणा

टिकटॉक की कंपनी को अमेरिका की ओर से मिला था ऑफर
बता दें कि टिकटॉक का संचालन करने वाली चीनी कंपनी बाइटडांस को पिछले दिनों राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका में अपना कारोबार बेचने के लिए कहा था, इसके साथ ही 15 सितंबर तक का समय उन्हें दिया गया था। जिसके बाद बाइटडांस ने अमेरिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के साथ जुड़ने की खबरें भी सामने आई थी।

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

राष्ट्रीय उपकरणों में डाउनलोड पर रोक
साल 2017 में एक कानून पारित कर चीन में कई कंपनियों को देश के राष्ट्रीय खुफिया विभाग के लिए काम में सहयोग करने की जिम्मेदारी दी गई थी। ऐसे में अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने एक प्रस्ताव को मंजूरी देकर सभी कर्मचारियों को इस ऐप को सभी राष्ट्रीय उपकरणों में डाउनलोड करने से रोक दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.