Wednesday, Aug 10, 2022
-->
uttar-pradesh-assembly-elections-congress-sought-time-to-meet-election-commission-again-rkdsnt

कांग्रेस ने मांगा चुनाव आयोग के अधिकारियों से फिर मिलने का वक्त 

  • Updated on 12/30/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने मंगलवार को निर्वाचन आयोग से मुलाकात करने वाले पार्टी प्रतिनिधिमंडल को अनधिकृत करार देते हुए फिर से भेंट करने का समय मांगा है। मंगलवार को कांग्रेस के तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग के अधिकारियों से लखनऊ में मुलाकात की थी। आयोग के अधिकारी इन दिनों राजधानी लखनऊ के दौरे पर हैं। 

GST बढ़ाने के खिलाफ कारोबारियों के विरोध का समर्थन करती है AAP सरकार: सिसोदिया

 

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा ने बृहस्पतिवार को संवाददाता सम्मेलन में इस बारे में पूछे जाने पर कहा कि कांग्रेस की तरफ से भेजे गए पत्र में जिन लोगों का नाम लिखा था उन्होंने ही आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की थी। उन्होंने कहा कि अगर मीडिया कर्मी चाहें तो वह पत्र उन्हें साझा किया जा सकता है।   दरअसल, उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने बुधवार को आयोग को एक पत्र लिखकर कहा था कि मंगलवार को जिस प्रतिनिधिमंडल ने आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की थी वह इसके लिए अधिकृत नहीं था। 

प्रियंका गांधी बोलीं- 'जितनी बड़ी-बड़ी संस्थाएं हैं, वे सब पीएम मोदी के मित्रों को बेच दी गई हैं

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा को संबोधित इस पत्र में बृहस्पतिवार को लल्लू की अगुवाई में पार्टी विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा, पूर्व राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी तथा पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी की सदस्यता वाले प्रतिनिधिमंडल को आयोग के अधिकारियों से मुलाकात करने का समय देने का अनुरोध किया गया है। 

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने कथित घृणा भाषणों, गिरजाघरों पर हमलों का संज्ञान लिया

मंगलवार को आयोग के अधिकारियों से मुलाकात करने वाले कांग्रेस नेताओं में से एक ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि वे पार्टी महासचिव (संगठन) दिनेश सिंह के निर्देश पर आयोग से मिलने गए थे। बाद में क्या हुआ उन्हें नहीं पता। मंगलवार को आयोग से मुलाकात करने वाले कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल में पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरेंद्र मदान के साथ-साथ ओंकार नाथ सिंह और मोहम्मद अनस खान शामिल थे। 

समाचारों के साथ विचारों को मिलाना ‘खतरनाक कॉकटेल’: प्रधान न्यायाधीश रमण 


 

comments

.
.
.
.
.