Tuesday, Jun 28, 2022
-->
uttar-pradesh-assembly-elections-more-than-60-percent-voting-in-second-phase-rkdsnt

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण में 60 प्रतिशत से ज्यादा मतदान

  • Updated on 2/14/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में नौ जिलों की 55 विधानसभा सीट के लिए सोमवार को शाम पांच बजे तक 60.44 प्रतिशत मतदान हुआ। दूसरे चरण में प्रदेश के नौ जिलों-सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, अमरोहा, बदायूं, बरेली और शाहजहांपुर की 55 सीट पर 586 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।    निर्वाचन आयोग कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक, दूसरे चरण के चुनाव के लिए मतदान सुबह सात बजे शुरू हो गया जो शाम छह बजे तक चलेगा। शाम पांच बजे तक औसतन 60.44 प्रतिशत वोट पड़े।    

आयोग के अनुसार, शाम पांच बजे तक सहारनपुर (67.13 प्रतिशत), बिजनौर (61.48 प्रतिशत), मुरादाबाद (64.88 प्रतिशत), संभल (56.93 प्रतिशत), रामपुर (60.30 प्रतिशत), अमरोहा (66 19 प्रतिशत), बदायूं (55.91 प्रतिशत), बरेली (57.88 प्रतिशत) और शाहजहांपुर में (55.25 प्रतिशत) वोट पड़े। इन जिलों में 2017 के विधानसभा चुनाव में औसतन 65.53 प्रतिशत और 2019 के लोकसभा चुनाव में 63.13 प्रतिशत मतदान हुआ था। उत्तर प्रदेश में सात चरणों में हो रहे विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 10 फरवरी को 62.4 फीसदी मतदान हुआ था।      दूसरे चरण में जिन 55 सीट पर मतदान हो रहा है, उनमें 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 38, सपा को 15 और कांग्रेस को दो सीट पर जीत मिली थी। सपा और कांग्रेस ने पिछला विधानसभा चुनाव एक साथ लड़ा था। सपा की जीती गईं 15 सीट में से 10 पर मुस्लिम उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की थी।  

  निर्वाचन आयोग ने बताया कि अभी तक मतदान शांतिपूर्ण होने की खबरें आ रही हैं।    समाजवादी पार्टी ने पुलिस पर अपने कार्यकर्ता को परेशान करने का आरोप लगाया।    पार्टी ने ट््वीट किया, ‘‘बरेली जिले की आंवला विधानसभा-126, ग्राम पंचायत धनौरा गौरी में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता बलवीर यादव के घर में पुलिस घुसकर गाली गलौज कर रही है। सपा के मतदाताओं को खुलेआम धमकी दे रहा है प्रशासन। चुनाव आयोग संज्ञान लेकर कार्रवाई सुनिश्चित करें।’’    बिजनौर जिले में आठ सीटों पर मतदान हो रहा है। आयुक्त अनंजय सिंह ने बताया कि सुबह कुछ इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में खराबी की सूचना मिली थी, जिन्हें तत्काल बदल दिया गया।  

 दूसरे चरण में कुल 586 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना (शाहजहांपुर सदर), जल शक्ति राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख (बिलासपुर), नगर विकास राज्य मंत्री महेश चंद्र गुप्ता (बदायूं), माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री गुलाब देवी (चंदौसी), आयुष राज्यमंत्री रहे और अब सपा के प्रत्याशी धर्म सिंह सैनी (नकुड़), सपा नेता आजम खान (रामपुर सदर) और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम (स्वार) प्रमुख हैं।    इस चरण के चुनाव के लिए प्रचार में सभी राजनीतिक दलों ने अपना पूरा जोर लगाया है। प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रमुख रूप से मुख्य विपक्षी दल सपा पर निशाना साधा और प्रदेश को दंगा मुक्त रखने के लिए भाजपा सरकार को जरूरी बताया।  

 प्रधानमंत्री ने सहारनपुर में तीन तलाक का मुद्दा भी उठाया और दावा किया कि उनकी सरकार ने मुस्लिम बहनों को तीन तलाक के चंगुल से आजाद कराया है।    केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी बरेली, शाहजहांपुर और बदायूं समेत विभिन्न स्थानों पर जाकर जनसभाएं कीं और विपक्षी दलों पर जमकर प्रहार किए।    दूसरी ओर, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपनी पार्टी के प्रचार अभियान की कमान संभाली। उन्होंने जेल में बंद अपनी पार्टी के नेता आजम खान के पक्ष में रामपुर में वोट मांगे और कहा कि ‘‘एक विश्वविद्यालय बनाने वाले आजम को जेल में डाल दिया गया जबकि लखीमपुर खीरी के तिकोनिया में किसानों को अपनी जीप तले रौंदने वाले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे को जमानत दे दी गई।’’    

वहीं, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान सपा, भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि सपा की सरकार ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाट-मुस्लिम भाईचारा समाप्त कर दिया।    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने विभिन्न जिलों के अनेक विधानसभा क्षेत्रों में घर-घर जाकर प्रचार किया।    राज्य में पहले चरण में 10 फरवरी को मतदान हुआ था। परिणाम की घोषणा 10 मार्च को होगी।    

comments

.
.
.
.
.