uttar pradesh bjp government is considering reducing penalty rates on traffic rules

जुर्माने की दरें कम करने पर विचार कर रही है यूपी की योगी सरकार

  • Updated on 9/12/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गुजरात, कर्नाटक और उत्तराखण्ड के बाद अब उत्तर प्रदेश की सरकार भी यातायात नियमों के उल्लंघन पर वसूले जाने वाले जुर्माने की दरों पर‘जनता के हित में’ फिर से विचार कर रही है। राज्य के परिवहन राज्यमंत्री अशोक कटारिया ने यहां संवाददाताओं से कहा 'उत्तर प्रदेश की जनता के हित में जुर्माना राशि को कितना किया जाए, इसके बारे में सरकार पुर्निवचार कर रही है।'

नोएडा: पुलिस ने वाहन जांच के दौरान पकड़े चार फर्जी पत्रकार

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जल्द ही यातायात नियमों के उल्लंघन के जुर्माने की नयी दरें घोषित करेगी। मालूम हो कि भाजपा शासित गुजरात, उत्तराखण्ड और कर्नाटक राज्यों की सरकारों ने संशोधित मोटर वाहन अधिनियम में जुर्माने की दरें अपने-अपने यहां आधी कर दी हैं, जबकि महाराष्ट्र और गोवा में इसके क्रियान्वयन को टाल दिया गया है।

जुर्माने की दरों में पहले के मुकाबले कई गुना बढ़ोत्तरी की आलोचना और सराहना दोनों ही हो रही है। संशोधित कानून के उल्लंघन पर हो रही सख्ती की सियासी आलोचना भी हो रही है।

अलीगढ़ कॉलेज में बुर्का, टोपी प्रतिबंध लगाने के लिए छात्रों ने किया प्रदर्शन

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गत रविवार को गाजियाबाद में वाहन निरीक्षण के दौरान यातायात पुलिसर्किमयों के कथित दुव्र्यवहार से क्षुब्ध एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की दिल का दौरा पडऩे से हुई मौत को 'ट्रैफिक टेररिज्म' का नतीजा करार देते हुए बुधवार को कहा था कि उत्तर प्रदेश की सरकार को इस मामले में गुजरात के नक्शेकदम पर चलना चाहिये।

comments

.
.
.
.
.