Sunday, Nov 28, 2021
-->
uttarakhand glacier breaks high alert in uttar pradesh by yogi adityanath govt rkdsnt

उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने के बाद यूपी में हाई अलर्ट, सीएम योगी ने बढ़ाई प्रशासनिक सक्रियता

  • Updated on 2/7/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से उत्पन्न हुई परिस्थितियों के मद्देनकार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को उत्तर प्रदेश के संबंधित विभागों और अधिकारियों को हाई अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया और घटना पर दुख जताया है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद गंगा किनारे बसे जिलों में प्रशासनिक सक्रियता बढ़ गयी है और संबंधित जिलाधिकारियों ने अधिकारियों की बैठक बुलाकर आवश्यक तैयारी शुरू कर दी है। योगी ने रविवार को ट्वीट किया,‘‘देवभूमि उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से उत्पन्न हुई आपदा में अनेक नागरिकों के कालकवलित होने की सूचना से मन दुखी है।‘‘ 

केंद्रीय कृषि तोमर बोले- किसान आंदोलन का स्वरूप सीमित क्षेत्र में 

ट्वीट में आगे उन्होंने लिखा‘‘प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्माओं को शांति, शोकसंतप्त परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति व घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।‘‘ रविवार को जारी एक सरकारी बयान में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि‘‘आज उत्तराखंड में नंदा देवी ग्लेशियर के एक हिस्से के टूट कर ऋषिगंगा नदी पर बने बिजली परियोजना बांध पर गिरने की सूचना प्राप्त हुई है। इससे अलकनंदा नदी में जल प्रवाह अचानक बढ़ गया है। बांध टूटने से उत्पन्न परिस्थितियों के ²ष्टिगत उत्तर प्रदेश में गंगा नदी के किनारे स्थित जिलों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।‘‘ 

सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस शाह ने पीएम मोदी को बताया ‘लोकप्रिय, जीवंत और दूरदर्शी नेता’

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में गंगा नदी के किनारे स्थित जिलों के सभी जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधीक्षकों को लगातार निगरानी के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि परिस्थितियों से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य आपदा मोचक बल को भी सावधान कर दिया गया है। आधिकारिक बयान के अनुसार प्रदेश में गंगा नदी के किनारे स्थित जिलों में जल स्तर की निरंतर निगरानी की जा रही है। जल स्तर बढऩे की दशा में आवश्यकता पडऩे पर गंगा नदी के किनारे बसे लोगों को यहां से अन्यत्र भेजा जाएगा। 

किसान आंदोलन : विरोध स्थलों पर फिर से इंटरनेट सर्विस अस्थायी रूप से सस्पेंड

योगी ने कहा कि संकट की इस घड़ी में उत्तर प्रदेश सरकार उत्तराखंड सरकार के साथ खड़ी है और उत्तराखंड सरकार को आवश्यकता पडऩे पर सभी आवश्यक मदद दी जाएगी।     उन्होंने लोगों से अपील की है,‘‘किसी भी अफवाह पर भरोसा न करें और न ही अफ़वाह फैलायें। स्वयं सतर्कता बरतते हुए लोग नदी के किनारे न जाएं। किसी विषम परिस्थिति के उत्पन्न होने पर जिला प्रशासन के साथ सहयोग करें। उत्तर प्रदेश सरकार सभी आवश्यक कदम उठा रही है।‘‘  सरकारी प्रवक्ता के अनुसार इस बीच मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड राज्य को हर प्रकार का संभव सहयोग उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए हैं।  

’ AAP ने किया MCD उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों का ऐलान

मुख्यमंत्री कार्यालय के ट्वीट के अनुसार योगी ने उत्तराखंड में ग्लेशियर के टूटने से उत्पन्न हुई परिस्थितियों के ²ष्टिगत प्रदेश में संबंधित विभागों, अधिकारियों एवं राज्?य आपदा मोचन बल को हाई-अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद गंगा नदी के किनारे वाले जिलों में सतर्कता बढ़ गई है। कन्नौज से मिली खबर के अनुसार जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने रविवार होने के बावजूद सभी अधिकारियों को तलब किया और आपात बैठक बुलाई तथा गंगा तट के किनारे बसने वाले सभी गांवों में आपात स्थिति से निपटने के निर्देश दिए। बैठक में गोताखोरों को अलर्ट किया गया है। 

रिहाना को लेकर जितेंद्र सिंह बोले- कोई नहीं कह सकता, कृषि कानूनों से किसानों को नुकसान होगा

लेखपाल और ग्राम पंचायत सचिव को भी गंगा किनारे बसे गांवों में जाकर सभी को अलर्ट रहने के लिये कहा गया है। जिलाधिकारी ने स्वयं महादेवी घाट पहुँच कर निरीक्षण किया और बैठक में गंगा किनारे बसे गांवों की सुरक्षा की काम्मिेदारी अफसरों को सौंपी। जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने बताया कि पानी बढऩे की आशंका को देखते हुए ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाएगा तथा ग्रामीणों के रहने व खाने की उचित व्यवस्था की जाए।   

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...


 

comments

.
.
.
.
.