बढ़ेगा वन टाइम सेटलमेंट योजना का दायरा

  • Updated on 1/15/2019

देहरादून/ब्यूरो। मंगलवार को वन टाइम सेटमलेंट योजना का शासनादेश जारी कर दिया गया। वहीं सरकार से कहा गया है कि जो भवन स्वामी इस योजना के लाभ से वंचित रह गए हैं, उनके लिए योजना का दायरा बढ़ाया जायेगा।

एकल आवास, व्यावसायिक भवनों और आवासीय इलाकों में नर्सिंग होम, प्ले स्कूल आदि के लिए सरकार की ओर से वन टाइम सेटलमेंट योजना लांच की गई है। कैबिनेट इसे पहले ही मंजूरी दे चुकी है। अब शासनादेश जारी होने के बाद निर्धारित शुल्क जमा कराकर लोग इस योजना का फायदा उठा सकते हैं। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने बताया कि जो भवन स्वामी इस योजना से छूट जाएंगे, उनके लिए योजना का दायरा बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है।

मंडी और आबकारी शुल्क से होगा गोवंश का कल्याण

ऊंचाई में तीन मीटर की छूट
आवासीय भवनों में पहले पृष्ठ सेटबैक में 40 प्रतिशत निर्माण मान्य है, जिसकी अधिकतम ऊंचाई 7 मीटर मान्य थी। अब ऊंचाई तीन मीटर बढ़ा दी गई है। वहीं व्यावसायिक भवनों में ऊंचाई तो पूर्ववत रहेगी लेकिन निर्माण 10  फीसदी अतिरिक्त होने पर भी कंपाउंड किया जा सकता है। फ्रंट सेटबैक और ग्राउंड कवरेज में भी छूट प्रदान की गई है।

6 मीटर चौड़े मार्ग पर भी दुकान चलेगी
आवासीय भू उपयोग में व्यवसायिक दुकान को कंपाउंड कराने के लिए पहले 18 मीटर चौड़े पहुंच मार्ग की जरुरत थी, जिसे अब घटाकर 6 मीटर कर दिया गया है। न्यूनतम भूखंड क्षेत्रफल को 125 वर्ग मीटर से घटाकर 15 वर्ग मीटर कर दिया गया है। इसमें अधिकतम क्षेत्रफल की सीमा जोड़ दी गई है, जो पहले नहीं थी।अधिकतम 200 वर्ग मीटर ही कंपाउंड हो सकता है।

50 वर्ग मीटर में क्लीनिक
नये मानकों के अनुसार  अगर आवासीय क्षेत्र में कोई क्लीनिक 50 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में है और पहुंच मार्ग 6 मीटर चौड़ा है तो उसे कंपाउंड कराया जा सकता है। इसके लिए पार्किंग का मानक भी नहीं होगा। नर्सिंग होम के लिए भूखंड का न्यूनतम क्षेत्रफल 450 वर्ग मीटर और पहुंच मार्ग की चौड़ाई 9 मीटर तय की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.