uttarakhand pilot dead bodies sent home

पायलट के शव हवाई मार्ग से भेजे गए घर, डीजीसीए टीम पहुंची दून, जांच शुरू

  • Updated on 8/22/2019

देहरादून/ब्यूरो। आपदाग्रस्त जिले उत्तरकाशी में हेलीकॉप्टर क्रैश होने की घटना की जांच नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) करेगा। डीजीसीए की टीम देहरादून पहुंच चुकी है। टीम घटनास्थल पर पहुंचकर तथ्य जुटाएगी। इधर, इस दुर्घटना में मारे गए पायलट और कोपायलट के शव देहरादून लाए गए। एसडीआरएफ ने अंतिम सलामी देने के बाद शवों को हवाई मार्ग से उनके घर के लिए भेजा।

Navodayatimes

 बुधवार को आपदा प्रभावित आराकोट क्षेत्र के गांवों में राहत सामग्री पहुंचा रहा एक हेलीकॉप्टर मोल्डी गांव के पास तार से टकराकर क्रैश हो गया था। हादसे में हेलीकॉप्टर में आग लग गई थी जिससे रंजीव लाल (53) पुत्र चरणजीत लाल निवासी सुखदेव विहार, दिल्ली, इंजीनियर शैलेश कुमार सिंह (37) निवासी कोलकाता और राजपाल राणा (32) पुत्र विजय सिंह निवासी खरसाली, यमुनोत्री (उत्तरकाशी) की मौके पर ही मौत हो गई।

Navodayatimes

प्रथम दृष्टया यह कहा गया कि सेब ढुलान के लिए पहाड़ में लगी ट्राली के तार से हेलीकॉप्टर के टकराने से यह हादसा हुआ है। डीजीसीए की टीम वीरवार को देहरादून पहुंची और फिर घटनास्थल के लिए रवाना हो गई। पुलिस ने घटना को लेकर अपनी शंकाओं और तथ्यों से डीजीसीए को अवगत करा दिया है। आईजी एसडीआरएफ संजय गुंज्याल ने डीजीसीए की टीम के देहरादून पहुंचने की पुष्टि की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.